ताज़ा ख़बर

PNEWS LIVE TV

बिहार में नितीश कुमार के कार्य से आप

Advertising Panel

Advertising Panel
PNews.co.in
अमृतसर में दशहरा के मौके पर बड़ा रेल हादसा
हुआ है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, जोड़ा फाटक के पास ये हादसा हुआ है. बताया जा रहा है कि 30 लोगों की मौत हो गई है और ये आंकड़ा 100 तक पहुंच सकता है. वहां चीख-पूकार मच गई है. चारोंतरफ अफरा-तफरी का माहौल है. सूचना मिलते ही वहां आला अफसर पहुंच गए हैं. घायलों को अस्पताल पहुंचाया जा रहा है और राहत कार्य जारी है.मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, रेलवे ट्रैक के पास रावण दहन हो रहा था. जैसे ही रावण के पुतले को आग लगाई गई, वहां पटाखे छोड़े जाने लगे. इसी बीच लोग पटाखे की आवाज से इधर-उधर होने लगे तभी वहां ट्रेन आ गई. इससे ट्रैक पर बैठकर दशहरा देख रहे लोग ट्रेन की चपेट में आने कई लोगों की मौत हो गई. ट्रेन पठानकोट से अमृतसर के तरफ जा रही थी. सूत्रों के अनुसार मरने वाले में ज्यादा बिहारी मजदूर ही शामिल है अभी तक सरकारी स्तर पर  मृतकों के बारे में कोई पुख्ता जानकारी मीडिया को उपलब्ध नहीं कराई गई है



PNews.co.in

गोण्डा से
 लवलेश कुमार शुक्ल 
आज ब्लॉक रुपईडीह ग्राम फरेंदा शुक्ल जनसंपर्क कार्यालय पर ग्रामवासियों के साथ योग की बैठक कर केंद्रीय प्रभारी युवा भारत राम आशीष जी ने ग्रामवासियों को योग व आयुर्वेद पर चर्चा करके युवा भाइयो को संगठन से जुड़ने की बात कही । प्रान्त प्रभारी उत्तर प्रदेश अश्विनी  मिश्रा जी ने युवाओ की दशा पर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि आज के युवाओं को सही दिशा देने की आवश्यकता है और युवा को सही दिशा योग के माध्यम से ही दी जा सकती है। समाजसेवी अजय शुक्ल ने विभिन्न राष्ट्रीय कार्यक्रमो के माध्य्म से समय समय पर ग्राम वासियों में राष्ट्र प्रेम का बिगुल फूकते रहते है । अपने व्यस्त समय में देश व राष्ट्र के लिए समय निकाल कर ग्राम में  ऐसे कार्यक्रम करते रहते है उन्होंने कहा कि यदि गांव सबल है तो देश सबल है। इस अवसर पर छात्र नेता केंद्रीय इलाहाबाद के मुकेश शुक्ल , ने कहा की योग करने से शरीर स्वस्थ रहता है जहाँ जहाँ बाबा रामदेव जी का प्रोग्राम होता है वहाँ युवाओं के साथ जाता हूं,,इस मौके पर कील तिवारी, मुन्नू तिवारी,विवेक मिश्र,राहुल मिश्र विवेक मिश्रा ,रोहित अवस्थी,अध्यक्ष संदीप शुक्ला, निबरु पासवान,योगेश शुक्ला छात्र नेता आदर्श अवस्थी  आदि उपस्थित रहे।
PNews.co.in



साकेत जैन सिवनी मप्र।

कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी ने केबल ऑपरेटर्स को आदेश जारी कर निर्देश दिये हैं कि वे ऐसे विज्ञापन जो विहित विज्ञापन संहिता के अनुरूप न हो, जो देश की विधि के अनुरूप न हों एवं जो नैतिकता, मर्यादा एवं भावनाओं या विचारों को ठेस पहुंचाते हों अथवा जो घृणित, भड़काऊ एवं दहलाने वाले हों उनका प्रसारण कतई न करें। जिला निर्वाचन अधिकारी श्री गोपाल चंद डाड ने समस्त केबल ऑपरेटरों को उपरोक्त निर्देशों का पालन करने को कहा है। निर्देशों का उल्लंघन करने पर केबल ऑपरेटरों के विरूद्ध वैधानिक कार्यवाही की जायेगी। निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार जिले में पेड न्यूज एवं आचार संहिता का उल्लंघन करने वाले विज्ञापनों की रोकथाम के लिए मीडिया सर्टिफिकेशन एवं मॉनिटरिंग समिति भी गठित की गई है जो विधानसभा चुनाव लड़ने वाले अभ्यर्थियों या राजनैतिक दलों के प्रिन्ट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया द्वारा प्रसारित किये जाने वाले विज्ञापनों का पूर्वावलोकन, समीक्षा एवं सत्यापन का कार्य कर रही है।
मीडिया सर्टिफिकेशन एण्ड मीडिया मॉनिटरिंग कमेटी के प्रमाणिकरण के बाद ही टेलीविजन चैनल्स पर विज्ञापन का प्रसारण किया जा सकेगा। उल्लेखनीय है कि केबल टेलीविजन अधिनियम के अनुसार उक्त दिशा निर्देशों का पालन नहीं करने पर केबल ऑपरेटर द्वारा नेटवर्क के प्रचालन के लिए प्रयुक्त उपकरणों को जप्त कर लिया जायेगा। अधिनियम के किसी भी प्रकार के उल्लंघन की दशा में उपकरण के अधिग्रहण तथा दण्ड का प्रावधान है। इसके अलावा धारा-16 के अंतर्गत आने वाले उपबंधों के उल्लंघन पर प्रथम बार दोषी पाये जाने पर 2 वर्ष की सजा या एक हजार रूपये जुर्माना या उपरोक्त दोनों कार्यवाहियाँ हो सकती हैं। इसके उपरान्त प्रत्येक बार दोषी पाये जाने पर 5 वर्ष तक की सजा एवं 5 हजार रूपये तक का अर्थदण्ड का प्रावधान है।
विज्ञापन प्रमाणीकरण की प्रक्रिया
प्रत्येक रजिस्ट्रीकृत राष्ट्रीय और राज्यीय राजनैतिक दल तथा निर्वाचन लड़ने वाला प्रत्येक अभ्यर्थी जो टेलीविजन चैनल्स पर विज्ञापन जारी करने का प्रस्ताव रखता है, उसे ऐसे विज्ञापन के प्रसारण के प्रारंभ की प्रस्तावित तिथि से कम से कम तीन दिन पूर्व और किसी अन्य व्यक्ति या अरजिस्ट्रीकृत राजनैतिक दलों के मामले में उन्हें प्रसारण की तारीख से कम से कम 7 दिन पूर्व अपने आवेदन मीडिया सर्टिफिकेशन एवं मॉनिटरिंग समिति के समक्ष प्रस्तुत करना होंगे। ऐसे आवेदनों के साथ प्रस्तावित विज्ञापन की इलेक्ट्रानिक फार्म में दो प्रतियों के साथ उसके विधिवत रूप से अनुप्रमाणित प्रतिलेखन (ट्रांस स्क्रिप्ट) संलग्न किया जायेगा।
प्रमाणन के लिए आवेदन में विज्ञापन बनाने की लागत, विज्ञापनों के अन्तर्वेश्नों के अंतराल व ऐसे प्रत्येक अन्तर्वेशन के लिए प्रसारित की जाने वाली प्रस्तावित दरों के साथ किसी टेलीविजन चैनल या केबल नेटवर्क पर ऐसे विज्ञापन के प्रस्तावित प्रसारण की लागत का उल्लेख निर्धारित प्रपत्र में करना होगा | यदि राजनैतिक दल या अभ्यर्थी के अलावा किसी अन्य व्यक्ति द्वारा राजनैतिक विज्ञापन जारी किया जाता है तो उस व्यक्ति को यह शपथ लेनी होगी कि वह किसी राजनैतिक दल या किसी अभ्यर्थी के लाभ के लिए नहीं है तथा यह कि उक्त विज्ञापन किसी राजनैतिक दल या किसी अभ्यर्थी द्वारा आयोजित या अधिकृत या खरीदा गया नहीं है और यह कथन कि सभी भुगतान चेक या डीडी के माध्यम से किये जायेंगे आदि विवरण शामिल होंगे।
PNews.co.in

मुजफ्फरपुर- दशहरा मेला के मद्देनजर शहर में विधि व्यवस्था, सुरक्षा  का एसएसपी मनोज कुमार ने बुधवार की रात सीसीटीवी कंट्रोल रूम से जायजा लिया। उन्होंने अघोरिया बाजार, बनारस बैंक चौक, माड़ीपुर और पंकज मार्केट में तैनात पुलिस कर्मियों को कंट्रोल रूम से ही वायरलेस पर ही जवानों को निर्देश दिए। बताया कि शहर के सभी सीसीटीवी कैमरे दुरुस्त हैं। कंट्रोल रूम में एक पदाधिकारी की ड्यूटी लगाई गई है जो वायरलेस सेट से लैस रहेंगे। सीसीटीवी में कोई संदिग्ध स्थिति दिखने पर तैनात पदाधिकारी शहर के गश्ती दलों को अलर्ट कराएगा। अपराध की स्थिति में सीसीटीवी फुटेज से भाग रहे अपराधियों की दिशा का लोकेशन भी वायरलेस पर जारी करेंगे। बता दे कि एसएसपी ने इस दौरान शहर में ट्रैफिक जाम की समस्या ना हो इसके लिए बड़ी संख्या में जवानों को तैनात किया है और स्काउट और एनएससी को भी यातायात नियंत्रण के लिए लगाया है। वहीं जिला नियंत्रण कक्ष से शहर के सभी प्रमुख चौक चौराहों पर लगे सीसीटीवी कैमरे के सभी को आवश्यक निर्देश भी दिया गया है। वहीं मनचलों और तेज रफ्तार से मोटरसाइकिल चलाने वालों पर भी कड़ी करवाई के आदेश विभिन्न थानों को दिया गया है।
PNews.co.in

विनय कुमार मिश्र गोरखपुर ब्यूरों।
मां दुर्गा की आस्‍था में लीन भक्‍तों के त्‍याग और बलिदान की गाथाएं तो हम सभी ने सुनी हैं लेकिन कहीं-कहीं पर आस्‍था पर अंधविश्‍वास इस कदर हावी है कि आज के आधुनिक समाज में भी सदियों से कई ऐसी परम्‍पराएं चली आ रहीं हैं जिसे सुनकर आप भी आश्‍चर्य में पड जायेंगे। एक ऐसा दुर्गा मंदिर, जहां पिछले तीन सौ सालों से चली आ रही है शरीर के अंगों से मां दुर्गा को रक्‍त चढाने की परम्‍परा। इस परम्‍परा को 10 दिन के मासूम से लेकर जवान और 100 साल के बुजुर्ग भी निर्वहन करते हैं।गोरखपुर के बांसगांव में श्रीनेत वंश के लोगों द्वारा नवरात्र में नवमी के दिन मां दुर्गा के चरणों में रक्‍त चढाने की अनोखी परंपरा पिछले 300 साल से चली आ रही है। देश-विदेश में रहने वाले श्रीनेत वंश के लोग नवमी के दिन यहां पर आते हैं और मां दुर्गा के चरणों में रक्‍त अर्पित करते हैं। सबसे खास बात ये हैं कि दस दिन के बच्‍चें से लेकर जवान और बुजुर्ग भी इस परंपरा का निर्वहन करते हैं। विवाहित युवकों के शरीर से नौ जगहों से और अविवाहितों के शरीर से एक स्‍थान से रक्‍त निकाल कर बेलपत्र में लेकर मां के चरणों में अर्पित किया जाता है। खास बात ये है कि एक ही उस्‍तरे से विवाहितों के शरीर के नौ जगहों पर और बच्‍चों को माथे पर एक जगह चीरा लगाया जाता है और बेलपत्र पर रक्‍त को लेकर मां के चरणों में अर्पित कर दिया जाता है। इसके बाद धूप व अगरबत्‍ती से निकलने वाली राख को कटी हुई जगह पर लगा लिया जाता है। पहले यहां पर जानवरों की बलि दी जाती थी पर अब मंदिर परिसर में बलि को रोक कर रक्‍तबली दी जाती है। लोगों का मानना है कि ये मां का आशीर्वाद ही है कि आज तक इतने सालों में न तो किसी को टिटनेस ही हुआ न ही घाव भरने के बाद कहीं कटे का निशान ही पडा। यहां के लोग मानते हैं कि मां को रक्‍त चढाने से मां खुश होती है और उनका परिवार निरोग और खुशहाल होता है। पिछले कई सौ सालों से बांसगांव में अंधविश्‍वास की इस परम्‍परा का निर्वाह आज की युवा पीढी भी उसी श्रद्धा से करती है, जैसा उनके पुरखे किया करते थे और सभी का मानना है कि क्ष‍त्रियों द्वारा लहू चढाने पर मां का आशीर्वाद उन पर बना रहता है। मंदिर में छोटे छोटे मासूम बच्‍चे चीखते चिल्‍लाते रहते हैं पर उनके पिता स्‍वयं उनको जबरन यहां पर रक्‍त बली के  लिये लाते हैं। शारदीय नवरात्रि की नवमी को दिन भर यहां पर रक्‍त बली चढती है और हजारों लोग यहां पर आकर बेलपत्र द्वारा अपने खून को चढाते हैं। यहां पर अपने उस्‍तरे लेकर लोगों के शरीर को काटने वाले नाईयों का कहना है कि कई पीढियों से यह लोग यहां पर हर साल यह लोग इस परम्‍परा काे निभा रहे हैं पर आजतक किसी को कुछ नही हुआ है। एक ही उस्‍तरे से पूरे गांव के लोगों की रक्‍त बलि चढाने वाले नाईयों का कहना है कि अब कुछ लोग अपने पास से ब्‍लेड लेकर यहां पर आते हैं और नये ब्‍लेड से काटने को कहते हैं पर आज भी उस्‍तरे की ही मदद से यह लोग कई लोग के शरीर में से रक्‍त निकालते हैं।
PNews.co.in

विनय कुमार मिश्र गोरखपुर ब्यूरों।
दिव्यांगता को अभिशाप मामने वालों के लिए गोराखपुर का जन्मांध बालक 'अमन' बहुत बड़ा मिसाल है। 12 साल की उम्र में उसकी यादाश्त ऐसी है कि हर कोई लोहा मान जाए। अमन को साल 2001 से 2100 तक का, मतलब 100 साल का कलेंडर पूरी तरह से याद है। कोई उससे किसी भी साल की तारीख को कौन सा दिन होगा पूछेगा तो तत्काल जवाब सही मिलेगा। यही नहीं देश दुनिया की तमाम बड़ी जानकारी उसकी जुबान पर बसी है। अमन जन्म से ही दिव्यांग है। उसे दोनों आंखों से दिखाई नहीं देता लेकिन वह तनिक भी हिम्मत नहीं हारता। शहर के राष्ट्रीय दृष्टिबाधित स्कूल में वह कक्षा चौथी का छात्र है और पूरी लगन से पढ़ाई करता है। अमन का स्वर भी बहुत अच्छा है। वह भजन से लेकर गीत तक बहुत ढंग से गाता है लेकिन, इस सबसे हटके जो उसकी सबसे खास पहचान और दिमागी कसरत को मिसाल बनाता है वह उसकी यादाश्त है। अमन से साल 2001 से साल 2100 के बीच की किसी भी तारीख में कौन सा दिन होगा, फौरन जवाब पाया जा सकता है। देश का जनरल नॉलेज हो या दुनिया का, भारत की राजधानी हो या अमेरिका कनाडा की, कुछ भी ऐसा नहीं है जिसका जवाब अमन बड़ी बेबाकी और शीघ्रता से ना दे दे। एक बातचीत में भी अमन बहुत सहजता के साथ अपने कौशल और मेधा का प्रदर्शन किया। उसने कहा सब कुछ याद करता हूं और फिर भूलता नहीं। वह आज ही अपना लक्ष्य निर्धारित कर चुका है और साल 2031 में वैज्ञानिक बनने की ठान रखा है। अमन की एक खास बात यह भी है कि अगर वह किसी से मिल लेता है और उसकी आवाज नाम पहचान लेता है तो दोबारा जब भी उस व्यक्ति से अमन की मुलाकात होगी वह तारीख और नाम सहित अगले की पहचान को बताकर अपना मुरीद बना लेता है। अमन की आंखों की रोशनी का जाना पूरे परिवार को दुख पहुंचाता है जिसे दूर करने के लिए सभी ने भरपूर कोशिश की लेकिन विधाता के सामने किसी कि नही चली। अमन अपने नाना मोतीलाल वर्मा का बहुत दुलारा है। जिसे लेकर वह इलाज के लिए देश के हर बड़े अस्पताल तक गए पर सफलता नहीं मिली तो वह निराश हुए लेकिन, अमन की क्षमता को देखकर उनकी निराशा आशा में बदल जाती है। अब सभी इसी उम्मीद पर हैं कि भगवान ने अगर आंखों की रोशनी छीनी तो उसे ज्ञान की ऐसी रोशनी दी है जो सभी को अपना कायल बना लेता है।
PNews.co.in

गोरखपुर ब्यूरों ।बेस्ट ड्रामेबाज में हिस्सा लेने के लिए ऑडिशन का आयोजन 21 अक्टूबर को प्रातः 10 बजे सांस्कृतिक संस्था रंगमंडल के तत्वाधान में पूर्वांचल के नृत्य कलाकारों के उत्साहवर्धन एवं उनके संवर्धन हेतु गोरखपुर वेस्ट ड्रामेबाज सीजन 3 का आयोजन आगामी 3 नवंबर को शहर के  वैश्णवी लान सिविल लाइंस में किया जाएगा। वरिष्ठ रंगकर्मी अजीत प्रताप सिंह और आयोजन के संयोजक नवीन पांडे ने गोरखपुर जर्नलिस्ट्स प्रेस क्लब में प्रेस वार्ता कर बताया कि पूर्वांचल के नाट्य मेधा को सही दिशा में स्थापित करने के लिए रंगमंडल गोरखपुर वेस्ट ड्रामेबाज का आयोजन कर रहा है। 21 अक्टूबर को प्रात 10 बजे से 5 बजे तक इंडियन इंस्टीट्यूट आफ रेडियो एंड टेलिविजन अलहदादपुर  रोड पर किया जाएगा। श्री सिंह ने बताया कि अभिनय के क्षेत्र में कैरियर बनाने के इच्छुक कलाकारों के लिए गोरखपुर बेस्ट ड्रामेबाज के दो सीजन पहले हो चुके हैं।इसमें प्रख्यात रंगकर्मी और फिल्म अभिनेता राजपाल यादव बतौर मुख्य चयनकर्ता रह चुके हैं।