भारत की महिला क्रिकेट टीम की कप्तान मिताली राज की कहानी को बायोपिक के ज़रिए बयां किया जाएगा. मिताली को आशा है कि इससे युवा महिलाओं को खेल को अपने करियर के तौर पर चुनने के लिए प्रेरित होंगी. 'वायकॉम-18 मोशन पिक्चर्स' ने इसकी घोषणा मंगलवार को की.

इस बायोपिक के अधिकार 'वायकॉम-18 मोशन पिक्चर्स' द्वारा हासिल किए गए हैं. इस स्टूडियो वे 'क्वीन', 'मांझी : द माउंटेन मैन', 'भाग मिल्खा भाग', 'मैरी कॉम' और 'टॉयलेट- एक प्रेम कथा' जैसी फिल्में बनाई हैं.

मिताली ने एक बयान में कहा, "मैं 'वायकॉम-18 मोशन पिक्चर्स' के साथ जुड़कर काफी खुश हूं. आशा है कि इस फिल्म से युवा महिलाओं को खेल को एक करियर के तौर पर चुनने की प्रेरणा मिलेगी." महिलाओं के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में मिताली सबसे अधिक रन बनाने वाली खिलाड़ी हैं और एकमात्र ऐसी खिलाड़ी हैं. वह वनडे में 6,000 रन पूरे करने वाली एकमात्र खिलाड़ी हैं.

इसके अलावा, मिताली वनडे में लगातार सात अर्धशतक लगाने वाली पहली महिला खिलाड़ी हैं. वह पहली ऐसी खिलाड़ी भी हैं, जिनकी कप्तानी में राष्ट्रीय टीम दो बार (2005, 2017) में आईसीसी वनडे विश्व कप के फाइनल में पहुंची. मिताली को उनकी इन उपलब्धियों के लिए 2015 में भारत का चौथा उच्चतम नागरिक पुरस्कार पद्मश्री से सम्मानित किया जा चुका है.
'वायकॉम-18 मोशन पिक्चर्स' के सीओओ अजीत अंधारे ने कहा, "यह स्टूडियो हमेशा से ही सशक्त और मज़बूत महिला किरदारों की भूमिकाओं को दर्शाता रहा है, फिर चाहे वह 'क्वीन' हो, 'मैरी कॉम' हो या 'कहानी'."

'वायकॉम-18 मोशन पिक्चर्स' के साथ साझेदारी के लिए मिताली राज को मेडालिन स्पोर्ट्स के निदेशक वरुण चोपड़ा द्वारा पुरस्कृत किया गया है. चोपड़ा ने कहा, "मिताली इतने साल से लोगों के लिए प्रेरणा का स्रोत रही हैं और अब उनकी कहानी पीढ़ियों को प्रोत्साहित करेगी."

Post A Comment: