कृष्ण कुमार संजय चीफ एडिटर ,
  बिहार :- राज्यभर में लगभग 50 हजार से अधिक छात्रों के इंटर रजिस्ट्रेशन में गड़बड़ी हुई है। बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की ओर से स्कूलों द्वारा हुई गड़बड़ी के लिए आवेदन मांगा गया था। इसमें लगभग 50 हजार से अधिक छात्र-छात्राओं के रजिस्ट्रेशन में गड़बड़ी का मामला प्रकाश में आया है। राज्य के आठ प्रमंडलों में इंटर के रजिस्ट्रेशन में गड़बड़ी हुई है। कई छात्रों ने किसी और स्कूल या कॉलेज से  रजिस्ट्रेशन कराया  और अब उनका रजिस्ट्रेशन किसी अन्य स्कूल से बताया जा रहा है। छात्रों के नाम और फोटो में भी गड़बड़ी हुई। इन समस्याओं को दूर करने के लिए बोर्ड की ओर से बुधवार से रजिस्ट्रेशन में सुधार के लिए पोर्टल खोला जाएगा। 
प्राचार्यों को दी गई जिम्मेवारी
छात्रों के रजिस्ट्रेशन में हुई गड़बड़ी के सुधार की जिम्मेवारी कॉलेज के प्राचार्यों को दी गयी है। कॉलेज व स्कूल के प्राचार्यों को कंप्यूटर चलाना आता ही नहीं है। ऐसी स्थिति में कैसे सुधार करेंगे। इसके लिए प्राचार्यों को एकबार फिर साइबर कैफे या अन्य कंप्यूटर के जानकारों से संपर्क करने की मजबूरी होगी। इधर, मैट्रिक रजिस्ट्रेशन में भी काफी गड़बड़ी हुई है। इसमें हालांकि अभी सुधार का मौका दिया गया है। अगर समय पर सुधार नहीं किया गया तो रजिस्ट्रेशन का जिम्मा लेने वाली एजेंसी का वर्क ऑडर समाप्त किया जा सकता है। इसकी पूरी संभावना लग रही है। 
पहले कंप्यूटर शिक्षक करते थे मदद
बता दें कि पूर्व में राज्यभर के दो हजार स्कूलों में कंप्यूटर शिक्षक कार्य कर रहे थे। लेकिन इनको उचित मानदेय और सेवा विस्तार नहीं किया गया है। इन्हें 2012 में आउट सोर्सिंग के माध्यम से रखा गया था और सितम्बर 2017 में हटा दिया गया है। इसके विरोध में तीन माह से वे धरना दे रहे हैं। इन्हीं  शिक्षकों पर पहले स्कूलों में कंप्यूटर ऑपरेट करने की जिम्मेवारी थी।  रजिस्ट्रेशन से लेकर वे छात्र-छात्राओं का फॉर्म भरने में मदद करते थे। बिहार कंप्यूटर शिक्षक  वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष दिलीप कुमार ने फिर से जल्द बहाली की मांग की है।  

Post A Comment: