सुनील वर्मा/पानीपत
शादियाें में आतिशबाजी और पटाखे जलाना आम बात है, लेकिन अब यह शौक भारी पड़ सकता है। यदि
स्मॉग के कहर के बाद सरकार और प्रशासन ने प्रदूषण पर रोक लगाने के लिए कई कदम उठाए हैं। विभिन्न प्रकार के जहरीले धुएं के चलते वायु प्रदूषण खतरनाक स्तर पर पहुंच चुका है। इस पर लगाम के लिए शादी और अन्य मौके पर पटाखे चलाने पर भी राेक लगाई गई। प्रदूषण की रोकथाम के लिए प्रशासन भी सख्त हो चला है।
इसकी रोकथाम करने के लिए पहले जहां प्रशासन की ओर से निर्माण कार्यों पर रोक लगाई गई थी, वहीं अब शादियों में पटाखे फोड़ने वालों पर भी शिकंजा कस दिया है। विवाह शादियों में बेरोकटोक पटाखे फोड़ने पर प्रशासन की ओर से प्रतिबंध लगा दिया है।
अब अगर किसी ने विवाह शादियों में पटाखे फोड़े तो उसे तुरंत ही धर दबोचा जाएगा। ऐसे आतिशबाजों के खिलाफ कार्रवाई के लिए अब शादियों पर प्रशासन की नजर भी रहेगी। बता दें कि रोहतक में प्रदूषण का स्तर दो दिन पहले दिल्ली से भी ज्यादा खतरनाक हो चला था।
” प्रदूषण की रोकथाम के लिए विवाद शादियों में पटाखे फोड़ने पर प्रतिबंध लगाया गया है। शादियों में जो भी पटाखे फोड़ेगा, उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। वहीं नियमानुसार जुर्माना भी किया जा सकता है। वहीं, प्रदूषण की रोकथाम के लिए लोगों को जागरूक भी किया जा रहा है।
शादी के मौके पर आतिशबाजी करते और पटाखे चलाते पकड़े गए ताे मौके पर ही गिरफ्तार किए जा सकते हैं। यह कदम स्मॉग और प्रदूषण के खतरनाक स्तर पर पहुंच जाने के कारण उठाया गया है।

Post A Comment: