कुलदीप वर्मा की रिपोर्ट :
  पानीपत में जिला स्तरीय गीता जयंती महोत्सव समारोह आर्य कॉलेज के खेल ग्राउंड में मनाया जा रहा हे  समारोह का शुभारम्भ हरियाणा के केबिनेट मंत्री कृष्ण पवांर के द्वारा किया जाना था की एन वक्त पर यह जानकारी मिली की वह इस समारोह में शामिल ना होकर सोनीपत पहुंचेंगे इससे पता चलता हे की सरकार गीता जयंती से समारोह को कितनी गंभीरता से लेती है इससे तो यह लगता हे की शायद इस तरह के धार्मिक कार्यकर्म सिर्फ दिखावा भर ना हो बेशक इस कार्यकर्मो के प्रति स्थानीय स्तर पर गंभीरता दिखती हो लेकिन सरकार के नुमायंदे ऐसे कार्यक्रमों को भी राजनीति की तरह लेते है। 

 पानीपत के आर्य कालेज के खेल ग्राउंड में तीन दिन तक चलने वाले गीता जयंती कार्यक्रम की शुरुआत हवन यज्ञ से हुई हवन यज्ञ में  आहुति देने की शुरुआत हरियाणा के केबिनेट मंत्री को करनी थी उनके यहां ना पहुँचने के कारण पानीपत के उपायुक्त भी हवन यज्ञ की समाप्ति के वक्त पहुंचे और उन्होंने यज्ञ में पूर्ण आहुति डाली व् दिप प्रज्वलित कर समारोह की शुरुआत की।  खेल ग्राउंड में जहाँ विभिन्न संस्थाओ ने अपनी अपनी प्रदर्शनी लगाकर लोगो को गीता के संदेश के साथ साथ स्वच्छता और ग्रामीण परिवेश से भी रूबरू करवाया।  प्रदर्शनी के पंडालों में जहाँ जिओ गीता पर प्रदर्शनी लगाई गई थी वहीं दूसरे लेखकों द्वारा लिखी गई गीता भी लोगो के आकर्षण का कारण रही और स्टाल पर बैठे इस्कॉन से जुड़े लोग आगंतुकों को समझा रहे थे की गीता ने शराब पिने वाले अंग्रेज लोगो का माइंड बदल दिया वः भगवान् कृष्ण के भक्त बन गए आप तो हिन्दुस्तानी हो गीता का अध्ययन जरूर करो सिर्फ 120 रपुए में गीता की प्रति खरीदकर घर लेजाओ। ,। इस समारोह को सफल बनाने में सरकारी व निजी शिक्षण संस्थानों के अध्यापकों व छात्र-छात्राओं  बढचढ कर भाग लिया । 

गीता जयंती समारोह के नोडल अधिकारी एडीसी राजिव मेहता ने कहा की समारोह का मुख्य उदेश्य
गीता के संदेश को घर घर तक पहुँचाना है
उन्होंने कहा कि गीता एक धार्मिक ग्रंथ ही नहीं यह विश्व को निष्काम कर्म करने का अद्भूत संदेश देने वाला महान् ग्रंथ भी है। इसलिए गीता का विश्व के अधिकतर देशों व धर्मो में अत्यधिक सम्मान है। वही कैबिनेट मंत्री के ना पहुंचने पर समाहरोह का शुभारम्भ करने पहुंचे उपायुक्त चंद्रशेखर खरे ने अपने सम्बोधन में कहा  कि गीता भारतीय परम्पराओं का एक महान् ग्रंथ है  हरियाणा की अध्यात्मिक भूमि पर घटित यह घटनाकर्म हमारे लिए गौरव का विषय है हम इसे ना मनाये तो यह हमारी गलती होगी। गीता में वर्णित भगवान श्री कृष्ण के संदेश को जन जन तक पहुंचाने 
से हमारे समाज को समाजिक व् आर्थिक फायदे के साथ साथ हर दिशा में लाभ मिलेगा 
में पूरी तरह रची बसी है  गीता का उपदेश सफल जीवन जीने के लिए मार्ग दर्शन का कार्य भी करता है। यही नहीं गीता में मानव जीवन की सभी समस्याओं का समाधान उपलब्ध है। इसलिए सभी लोगों को प्रति दिन गीता का पाठ करना चाहिए। भक्ति योग कर्म योग , ज्ञानयोग उसके बारे में जो भगवान श्री कृष्ण ने कहा हे उसके बारे में आत्मसात करके ना केलवल हम अपना जीवन सुधारेंगे बल्कि अपने परिवार व् आसपास के माहौल में भी बदलाव ला सकते है। समाहरोह में जहाँ छात्राओं ने भगवान श्री कृष्ण की लीला पर नृत्य किया वही बच्चो ने स्टेज पर गीता में लिखे मुख्य श्लोको का भी सरल हिंदी अनुवाद कर उपस्थित आगंतुकों का मन मोहा। 

Post A Comment: