कटिहार से राहुल कुमार की रिपोर्ट :
पुनर्वास संघर्ष समिति के तत्वावधान में पूर्व घोषित 24 नवम्बर को जिले के पूर्ण नाकेबंदी कार्यक्रम को लेकर सैकड़ों की संख्या में हाथ में तिरंगा लिये महिला व पुरुष विस्थापित राजेन्द्र स्टेडियम में एकत्रित हुए। विभिन्न प्रखंडों व अंचलों से आये विस्थापित परिवारों द्वारा हाथ में तिरंगा में लेकर शहर के विभिन्न मार्गों पर जुलूस भी निकाले गये। इस बावत संघर्ष समिति के संस्थापक विक्टर झा ने बताया कि विस्थापितों के पुनर्वास तथा कटाव के स्थायी समाधान के लिए शुक्रवार 24 नवम्बर को जिले पूर्ण नाकेबंदी की  गयी
। उन्होंने कहा कि दो बार आमरण अनशन किये जाने के बावजूद विस्थापितों तथा भूमिहीनों के पुनर्वास व कटाव का स्थायी समाधान की मांगे पूरी करने की दिशा में ठोस आश्वासन दिये जाने के बावजूद सरकार द्वारा कोई कदम नहीं उठाया गया। साथ ही गरीब विस्थापितों की झोपउ़ी बांधों पर व विभिन्न सड़कों के किनारे से तोड़े जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि गंगा एवं महानंदा नदी के कटाव के कारण हुए बेघर विस्थापितों तथा भूमिहीन जो विभिन्न बांधों सड़कों के किनारे रेलवे लाइनों के किनारे तथा यत्र तत्र सरकारी जगहों पर खानाबदोश वाली जीवन जी रहे हैं। इन एपीएल व बीपीएल परिवारों को बिना विभेद किये पुनर्वास करवाना गंगा नदी तथा महानंदा नदी का कटाव का स्थायी समाधान को लेकर कलेक्ट्रेट घेराव व चक्का जाम होगा।

Post A Comment: