कुलदीप वर्मा की रिपोर्ट  :-   पानीपत जिले की थाना समालखा पुलिस ने ड्यूटी मजिस्ट्रेट नायब  तहसीलदार समालखा अनिल कौशिक की उपस्थिति में रविवार की देर रात रविता, इसके पति सतीश वर्मा, एडवोकेट महेश और नगर पालिका समालखा के निवर्तमान अध्यक्ष अशोक कुच्छल को
ब्लेक मेलिंग के आरोप में गिरफ्तार किया  ।  पुलिस ने आरोपियों के पास से  15 .लाख रूपये की पाउडर लगी राशि  ड्यूटी मजिस्ट्रेट अनिल कोशिक की मौजूदगी में बरामद की है।
  पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार गत दिनों महिला रविता पत्नी सतीश वर्मा ने समालखा सब्जी मंडी आढ़ती एसोसिएशन के अध्यक्ष संजय बेनीवाल के खिलाफ थाना समालखा में उसके साथ दुष्कर्म करने के आरोप में केस दर्ज करवाया था । पुलिस को दी  शिकायत में  रविता ने आरोप लगाया  था कि संजय ने उसके साथ अक्टूबर और नवंबर माह में दुष्कर्म किया था । पुलिस ने महिला की शिकायत पर संजय के खिलाफ दुष्कर्म के आरोप में केस दर्ज कर जांच शुरु कर दी थी । दूसरी ओर शिकायतकर्ता महिला ने दुष्कर्म के इस केस को वापस लेने के एवज में संजय बेनीवाल से 50  लाख रूपये की डिमांड की लेकिन बिचौलियों के माध्यम से 20 लाख में मामला सेटल करने की बात हो गई। 
संजय ने 5 लाख की राशि  शिकायतकर्ता महिला को दे दी ।
  वही इस केस में नगर पालिका समालखा के पूर्व  अध्यक्ष अशोक कुच्छल ने अपने किसी साथी के साथ मिलकर दोनों पक्षों के बीच 20 लाख में समझौता करवा दिया ।  समझौते के तहत रविवार की देर रात अशोक कुच्छल के बिजली घर के पास स्थित गोदाम  में 15  लाख रुपए की राशि संजय ने भिजवा दी । वही ड्यूटी मजिस्ट्रेट अनिल कोशिक डीएसपी नरेश अहलावत थाना समालखा के एस एच ओ  नवीन संधू ने  रेड कर दी और संजय पर दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली महिला रविता, इसके  पति सतीश, नगर पालिका के पूर्व चेयरमैन अशोक कुचल और  वकील महेश  को रूपयो के साथ गिरफ्तार कर लिया । ड्यूटी मजिस्ट्रेट के समक्ष पुलिस ने आरोपी व् बिचौलियों के हाथ  धुलवाए तो सभी के हाज लाल व् गुलाबी हो गए ।  उल्लेखनीय  है कि रेड से पहले पुलिस ने 15 लाख रूपयो को  पाउडर लगा दिया था । 
जबकि दुष्कर्म के आरोपी संजय बेनीवाल के भाई अखिल भारतीय जाट महासभा के नेता अनिल बेनीवाल ने इस केस को लेकर जिला उपायुक्त डॉ चंद्रशेखर खरे से शिकायत कर न्याय की गुहार की थी । डीसी  खरे ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए समालखा तहसील के नायब तहसीलदार अनिल कोशिक को ड्यूटी मजिस्ट्रेट नियुक्त कर जांच के आदेश दिए थे

Post A Comment: