ब्रजेश /पंकज की रिपोर्ट :- दलसिंहसराय व्यवहार न्यायालय के न्यायिक दंडाधिकारी विनीत कुमार सिंह ने गुरूवार को  तीन वर्षो से फरार  अभियुक्त पूर्व विधायक शील कुमार राय को जमानत पर रिहा कर दिया। जिसे आज गुरूवार को बचाव पक्ष के अधिवक्ता रमण कुमार द्वारा जमानत आवेदन को संचालित करने का न्यायालय से निवेदन किया गया।
न्यायालय में परिचालन करते हुए उन्होंने कहा कि दिनांक 17 नवम्बर को बंध पत्र खंडित होने की सूचना मिलते ही न्यायालय में अभियुक्त उपस्थित हुए। बचाव पक्ष के अधिवक्ता ने न्यायालय को ये भी कहा कि तत्कालीन पैरवीकार अधिवक्ता अभियुक्त को पुलिस पेपर प्राप्ति हेतु संदेह उपस्थित होने की न्यायालय के आदेश की सूचना नही दी। जिस कारण से न्यायालय के आदेश का पालन समय पर न हो सका। भविष्य में प्रॉपर पैरवी होगा। न्यायालय ने पूर्व से 22 दिसम्बर को आरोप से अवगत होने के लिए तिथि निर्धारित की हैं।बताते चले वर्ष 2009 में लोकसभा चुनाव के दौरान उजियारपुर थानाक्षेत्र के सूरजपुर गांव स्थित एक टेलीफ़ोन के खम्भा में कांग्रेस पार्टी का प्लास्टिक का झंडा टँगा हुआ था। जिसे सेक्टर पदाधिकारी सह एनआरईपी के सहायक अभियंता ने क्षेत्र भ्रमण के दौरान जप्त किया। उस समय अभियुक्त शील कुमार राय कांग्रेस पार्टी के लोकसभा प्रत्याशी थे। जिसका उजियारपुर थाना कांड संख्या 70/2009 दिनांक 16/4/2009 हैं। प्राथमिकी 3(1) बिहार संपत्ति डिफेसमेन्ट निवारण अधिनियम के अंतर्गत लोक संपत्ति को नुकसान पहुचाने के संबंध में दर्ज हुआ था।न्यायालय के फैसले से पूर्व विधायक शील कुमार राय खुश नजर आए।वहीं उनको जमानत याचिका की मंजूरी मिलने से उनके समर्थकों में खुशी की लहर देखने को मिला।

Post A Comment: