खुले में शौच से मान सम्मान हो जाएगी खत्म,डीएम

ढाका संवाददाता,शिव कुमार की रिपोर्ट

मोतिहारी। खुले में शौच करने से आपका मान-सम्मान व मर्यादा समाप्त हो जाएगी। आप अपने घरों में शौचालय अवश्य बनाएं। यह आपकी इज्जत है। स्वच्छ भारत मिशन की आत्मा है। खुले में शौच करने के लिए शर्म छोड़ना पड़ता है। कई बीमारियों से भी ग्रस्त होना पड़ता है। यह वर्ष सत्याग्रह शताब्दी वर्ष है, अगर गांधी जी को मानते है तो इस वर्ष में हम सभी दिसंबर तक खुले में शौच से मुक्ति ले लें। उक्त बातें प्रखंड मुख्यालय स्थित मनरेगा सभागार में लोहिया स्वच्छ बिहार मिशन के तहत आयोजित एक दिवसीय कार्यशाला में उपस्थित अधिकारी व जन प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए जिलाधिकारी रमण कुमार ने कही। कहा - गुलामी से तो हमें आजादी मिल चुकी है, लेकिन खुले में शौच से आजादी नहीं मिल सकी। केन्द्र सरकार के सचिव ने चंपारण में चार दिन रात्रि विश्राम कर चंपारण का चयन किया है। मौके पर उपस्थित युनिसेफ के पदाधिकारी शशिभूषण ने कहा कि हम अपने इज्जत को संभालते-संभालते 70 साल बिता दिए फिर भी सम्मान योग्य नहीं बन पाए। जिलाधिकारी श्री कुमार ने कहा कि भूमि विवाद को छोड़ें और पहाड़पुर को सत्याग्रह शताब्दी वर्ष पर खुले में शौच से मुक्त कराने का संकल्प लें।

Post A Comment: