चीफ एडिटर ,कृष्ण कुमार संजय की रिपोर्ट : बिहार के शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा ने कहा कि बच्चों को सामान्य शिक्षा देने के साथ-साथ  कौशल विकास 
भी आवश्यक है। सिर्फ डिग्री लेने से भविष्य बेहतर नहीं हो सकता हैं। युवाओं का भविष्य सुनहरा हो, इसके लिए आवश्यक है कि उनके अंदर के हुनर को विकसित किया जाए। यह वर्तमान समय में सबसे महत्वपूर्ण मांग है। शिक्षा मंत्री बुधवार को बिहार माध्यमिक शिक्षा परिषद द्वारा आयोजित ‘लाइफ स्किल एंड कैरियर काउंसिलिंग कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि राज्य के छह जिलों के 100 स्कूलों में उक्त कार्यक्रम के तहत विद्यार्थियों को उनके कैरियर से संबंधित प्रशिक्षण दिया गया। यह सराहनीय कार्य हुआ है। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों के जीवन में एक ऐसा मोड़ आता है, जिसमें वह निर्णय नहीं ले पाता है कि आगे कौन सा रास्ता पर चले जिससे उसका भविष्य उज्ज्वल हो सके । ऐसे में कैरियर काउंसिलिंग युवाओं को बेहतर रास्ता चुनने में मददगार साबित होती है। बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए राज्य सरकार, शिक्षक और अभिभावक सभी अपना दायित्व समझें और ईमानदारी के साथ निभाएं, यह आवश्यक है।शिक्षा मंत्री ने कार्यक्रम से जुड़ी पुस्तिका का भी विमोचन किया। साथ ही बेहतर प्रदर्शन करने वाले स्कूलों के शिक्षकों को सम्मानित भी किया। मौके पर बिहार माध्यमिक शिक्षा परिषद के निदेशक मनोज कुमार ने कहा कि दस जिलों के एक हजार स्कूलों में उक्त कार्यक्रम चलाने की सहमति मिल गई है। जल्द ही इसकी शुरुआत की जाएगी। कार्यक्रम में संबंधित जिलों के स्कूलों के प्रधानाध्यापक, शिक्षक और विद्यार्थी बड़ी संख्या में शामिल हुए। विक्रमशिला एजुकेशन संस्था से जुड़ी शुभ्रा चटर्जी, यूनिसेफ के शिवेंद्र पांडेय आदि ने भी अपनी अपनी विचार रखे।

Post A Comment: