हाजीपुर से राजाबाबू की रिपोर्ट : बिहार में पूर्ण शराबबंदी है। बिहार के मुख्यमंत्री ने बिहार को शराबमुक्त बनाने का संकल्प ले रखा है। लेकिन बिहार के शराब माफिया अपनी पहुँच के कारण बेखोफ शराब बेच रहे है। बिहार के कुछ जिलों में तो पुलिस वाले ही शराब के कारोबार में लिप्त है। तो कही पुलिस के संरक्षण में शराब का अवैध कारोबार फल फूल रहा है। इन सबके बीच बिहार के कुछ दियारा इलाके में डुप्लीकेट शराब बनाने का कारोबार भी खूब होता है। और इन सबके बीच समय समय पर पुलिस द्वारा हमेशा कुछ शराब पकड़ा भी जाता है।
बिहार में शराबबंदी के बाद कई जिलों में जहरीली शराब पीने से कई लोगों की मौत भी हो चुकी है। ताजा मामला वैशाली जिला का है। वैशाली जिला के राजापाकर थाना के सहायक थाना के बरांटी ओपी अन्तर्गत बशौली गांव में बीती रात जहरीली शराब पीने से 3 लोगों की मौत हो गई। जबकि एक जिंदगी और मौत से पटना के पीएमसीएच में जिंदगी और मौत से जूझ रहा है। वही दर्जनों लोग बीमार हैं।
घटना के बाद आक्रोशित ग्रामीणों ने स्थानीय एक शराब कारोबारी को पकड़कर धुनाई कर पुलिस को सौंपा है। घटना के बाद पुरे गांव में चीख पुकार मच गई है। मामले की जानकारी पर जिला प्रशासन के वरीय पदाधिकारी घटनास्थल पर पहुंचें
इस तरह की घटना होने के बाद पुलिस और उत्पाद की टीम कार्रवाई जरूर करती है। लेकिन क्या थाना क्षेत्र में शराब बेचे जाने की जानकारी स्थानीय थाना की पुलिस को नहीं होती लोग बताते है के खाकी वर्दी वाले चौकीदार के भाई शराब बेचता है  इसी चौकीदार के भाई की दुकान से मरने वाले ने शराब पीया जहरीली शराब पीने से जहां तीन व्यक्ति की मौत हुई है वही कई बिमार हैं जब के राम प्रवेश पडित PMCH मे भर्ती है मरने वालों मे अरुण पटेल, लाल बाबू पासवान, देन्व्रेर पासवान शामिल हैं

Post A Comment: