पानीपत(सुनील वर्मा):- बीएसएनएल की सभी अखिल भारतीय यूनियन एवं रिटायर्ड कर्मचारियों की यूनियन व् एसोसिएशनों ने अपनी मांगो को लेकर तारघर के गेट के सामने जीटीरोड पर
धरना प्रदर्शन कर सरकार के खिलाफ अपना रोष प्रकट किया।  धरने पर बैठे पदाधिकारियों ने मिडिया से बात करते हुए कहा की अगर समय रहते सरकार ने उनकी मांगे नहीं मानी तो  समय में अगर अपनी मांगो को मनवाने के लिए यूनियनों से जुड़े सभी  कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाएंगे। 
 बीएसएनएल की सभी अखिल भारतीय यूनियन व रिटायर्ड कर्मचारियों की हड़ताल के दूसरे दिन सर्व कर्मचारी महा संघ हरियाणा की यूनियन के पदाधिकारी भी बीएसएनएल कर्मचारियों द्वारा की जा रही हड़ताल का समर्थन देने पहुंचे। सर्व कर्मचारी महासंघ के पदाधिकारी ने हड़ताली कर्मचारियों को सम्बोधित करते हुए कहा की सरकार बीएसएनएल को खत्म करने पर तुली हुई है सभी काम आऊट सोर्सिंग से करवा रही है आपको जागना होगा और आम आदमी को भी बताना होगा की यह लड़ाई हम अपने लिए नहीं लड़ रहे हैं बल्कि सार्वजनिक संस्थानों को बचाने के लिए लड़ी जा रही है  अड़े रहेंगे तो आने वाली हमारी पीढ़ी को सरकारी रोजगार मिलेंगे जब हम इस तरह से लोगो में नई बात रखेंगे तो आम आदमी भी आपके साथ खड़ा होगा। दूसरी तरफ बीएसएनल हरियाणा आफिसर यूनियन के सर्कल सचिव दरबारा सिंह। बीएसएनएल कर्मचारियों की तीन मुख्य मांगे है जिसको लेकर सरकार से लड़ाई है एक वेतन संशोधन को लेकर है सरकार 15 प्रतिशत फिटमेंट एवं सभी भत्तों के साथ एक जनवरी 2017 से लागू करे।  दूसरा पीआरसी के मुद्दों को सरकार अविलंभ हल करे।  तीसरा मुद्दा अहम है सरकार सहायक टावर कम्पनी का गठन करे जा रही है ताकि बीएसएनएल के टावरों को निजी हाथो में सौंपा  जा सके इस पर रोक लगे।   कर्मचारी यूनियनों के पदाधिकारियों ने  सरकार उनकी मांगे तय समय में नहीं मानती तो आने वाले समय में अनिश्चितकालीन हड़ताल को  मजबूर होंगे।

Post A Comment: