ओपी सिंह बने यूपी के नये डीजीपी

अजित कुमार यादव की रिपोर्ट :

केंद्र में  सीआइएसएफ के पद पर तैनात उत्तर प्रदेश कैडर के आइपीएस अधिकारी ओपी सिंह उत्तर प्रदेश पुलिस के नए महानिदेशक होंगे। श्री सिंह आज रिटायर हो रहे सुलखान सिंह की जगह लेंगे। ओपी सिंह के पास डीजीपी पद पर काम करने का लंबा समय है। 
उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार एक ऐसे अफसर की तलाश कर रही थी जिसके पास आगामी लोकसभा चुनाव कराने तक का लंबा हो। सरकार के हिसाब से ओपी सिंह कसौटी पर खरा उतरते हैं। प्रदेश के प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार तथा प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री शशि प्रकाश गोयल की कमेटी की संस्तुति पर 1983 बैच के आइपीएस अधिकारी ओपी सिंह को प्रदेश का नया पुलिस प्रमुख नियुक्त किया गया है। इसके साथ ही आनंद कुमार को एडीजी लॉ एंड आर्डर बनाया गया है। ओपी सिंह दिल्ली जा रहे हैं, वहां से रिलीव होने के बाद लखनऊ वापस आएंगे। 
 1983 बैच के आईपीएस अफसर ओपी सिंह को आज अचानक लखनऊ बुलाया गया । वह चेन्नई से राजधानी आकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिले।
ओपी सिंह डीजी सीआईएसएफ के पद पर केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर हैं। ओपी सिंह  सबसे लंबे कार्यकाल वाले सातवें नंबर के अफसर हैं। उनके पास लंबा कार्यकाल और अनुभव बना है। ओपी सिंह के पास काम करने के लिए ढ़ाई साल का लंबा वक्त है। योगी आदित्यनाथ सरकार एक ऐसे अफसर की तलाश कर रही थी जिसके पास आगामी लोकसभा चुनाव कराने तक का लंबा वक्त है।
ओपी सिंह  केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) के डीजी के पद पर तैनात है। ओपी सिंह उत्तर प्रदेश कैडर के 1983 बैच अधिकारी हैं, जो राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) के महानिदेशक के रूप में सेवा कर रहे थे।
उनका कार्यकाल जनवरी 2020 तक है। वीरता के लिए राष्ट्रपति के पुलिस पदक प्राप्त ओपी सिंह एकमात्र डीजी रैंक के अधिकारी हैं। उनको एनडीआरएफ में कुछ बेहतरीन मानक संचालन प्रक्रियाओं की शुरुआत करने के लिए श्रेय दिया गया है और बड़े पैमाने के दौरान मैदान पर अपने लोगों का नेतृत्व किया है। नेपाल भूकंप बचाव और राहत कार्यों पिछले वर्ष उन्होंने एसपीजी, सीआरपीएफ व सीआईएसएफ में पहले सेवा की थी। वह राष्ट्रीय रक्षा अकादमी के छात्र रहे हैं और और आपदा प्रबंधन में एमबीए की डिग्री उन्हें प्राप्त है।
ओपी सिंह बिहार के गया जिले के रहने वाले हैं। वर्तमान में सीआईएसएफ डीजी के पद पर तैनात हैं।

Post A Comment: