पानीपत से सुनील वर्मा की रिपोर्ट :
आज जब हम गाँवों  की बात करते हैं तो पढ़ी लिखी पंचायत की तस्वीर सामने आती हैं। अगर कोई गांव राष्ट्रपति के हाथों सम्मानित हुआ हो तो यह समझा जा सकता हे की उस गाँव की व्यवस्था हर तरिके से चाक चौबंद होगी। हाँजी हम पानीपत जिले के पहले और हरियाणा में दूसरे नंबर आये निर्मल गांव का सम्मान होने का गौरव हासिल हुआ उसके बाद नीदरलैंड के प्रिंस प्रभावित होकर गांव का दौरा करने आये  तो ग्रामीण अपने आप को गोरवान्वित  महसूस करने लगे , स्वभाविक हैं वह गांव खास हो जाता हैं। 2007 में मिले भारत के राष्ट्रपति के हाथो निर्मल गाँव पुरस्कार के  बाद आज यह बिलासपुर गाँव बदहाल व्यवस्था का शिकार हो गया।

  पानीपत जिले के समालखा ब्लॉक का बिलासपुर गांव जोकि 2007 में राष्ट्रपति ऐ पी जे अब्दुल कलाम के हाथों  निर्मल गांव पुरस्कार से सम्मनित हुआ । नीदरलैंड के प्रिंस जब भारत के दौरे पर आये और पानीपत पहुंचे तो स्थानीय प्रशासन ने प्रिंस को गाँव का दौरा करवाया तो ग्रामीणों को लगा अब गाँव में और ज्यादा विकास होगा हुआ उसके उल्ट , 10 साल बीत जाने के बाद आज इस गांव के निवासी कई सुविधायों से वंचित हैं और उन्हें इंतजार हैं कभी तो हमारी गांव की समस्या का समाधान होगा कभी तो वह दिन आएगा जब हमारी बेटियो को बाहर पढ़ने के लिए नही जाना पड़ेगा चिकित्सा  की सुविधा हमारे गांव में ही मिलेगी इस समय पिने के पानी जैसी मुलभुत सुविधाओं का भी टोटा दिखता है गाँव में।  


 बिलासपुर गांव को  2007 में हरियाणा का दुसरा जिले का पहला निर्मल गांव होने का गौरव मिला ।जिससे ग्रामीण बड़े खुश थे कि उस समय बिलासपुर गांव में सभी घरो में शौचालय बने और यह गांव देश के दूसरे गांव के लिए भी उदाहरण बना इस गांव की ख्याति दूर दूर तक गई जिसके चलते नीदरलैंड के प्रिंस विलियम एलेग्जेंडर गांव पहुचे किसी विदेशी का निर्मल गांव में पहुचना यह वास्तव में ग्रामीण वासियो के लिए गौरव की बात थी और प्रिंस ने  गांव के सरपंच को ट्रॉफी देकर सम्मानित भी किया था ।लेकिन यह दुर्भगय कि बात हैं कि आज इस गांव में शिक्षा ,स्वस्थ्य व जल प्रतिदिन प्रोयग में आने वाली जरूरतों की कमी हैं ग्रामीनवासियो का कहना हैं कि अब यह गांव निर्मल गांव जैसा नही रह जैसे पहले था. ग्रामीणों का कहना हें की गांव की चौपाल पिछले कई वर्षों से बंद पड़ी हैं चौपाल  में जाले लग चुके हैं वहां गाँव की महिलाये गोबर के उपले बनाकर रख रही हैं। सफाई नाम की चीज नहीं है गाँव के चारो तरफ बदहाली का आलम है।  

  2005 से 2010 तक बिलासपुर के  सरपंच रहे सूरत सिंह कहते  हैं कि हमारे गांव को 2005 में निर्मल गांव घोषित किया गया 2007 में स्वच्छता के लिए राष्ट्रपति अवार्ड से मनोनीत किया गया यहां तक कि नीदरलैंड के प्रिंस चार्ल्स अलेक्जेंडर गांव को स्पेशल देखने के लिए आज उस गांव का यह हाल है कि वहां पर किसी सरकारी हॉस्पिटल हो शिक्षा का क्षेत्र हो सफाई की हम बात करें या पशुओं के लिए हॉस्पिटल हो सब दिखावा दिखाई देता है गाँव में पांचवी तक का प्राइमरी स्कुल हे शिक्षा के लिए 5 वी के बाद पढ़ाई के लिए बच्चियां  दूर शहरों में जाती हैं 
 बिलासपुर गांव के मौजूदा सरपंच जयबीर  का कहना हें सरकार से कोई ग्रांट नही आ रही हैं जिससे गांव में काम करने से समस्या आ रही हैं उनका कहना हें की गांव का लोग अगर साथ दे तो दुबारा से निर्मल गांव का सम्मान बरकरार रह सकता हैं लेकिन गांव के लोग साथ नही दे रहे हैं गांव की कोई आय का साधन नही हैं गांव की पंचायती जमीन पर भूमाफिया  ने कब्जा किया हुआ हे उच्च न्यायालय में केस चल रहा हैं पंचायती जमीन कब्जाधारियों से छूटने के बाद ही गाँव की आमदनी का कोई साधन बन सकता है।
 अतिरिक्त उपायुक्त राजीव मेहता निर्मल गांव के योजनाओं पर बात को टालते नजर आए और स्वछता पर बोले ओडीएफ स्कीम  और स्वच्छता में अंतर् समझना होगा गाँव को स्वच्छ रखना सभी की नैतिक जिम्मेवारी हैं। 

Post A Comment: