रिपोर्टर-अमित कुमार उरई

जालौन।उरई में  गाँधी चबूतरे पर भारतीय किसान यूनियन(भाकियू )द्वारा आयोजित एक दिवसीय
विरोध प्रदर्शन के माध्यम से उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री से अपनी माँग रखी।
बिजली विभाग द्वारा घोषित नई दरो को वापस लिया जाए।विधुत दरों के पुनिर्धारण हेतु हर वर्ग के विधुत उपभोक्ताओं से वार्ता की जाए।अचानक की गई 50 से लेकर150प्रतिशत तक की व्रद्धि से किसानों और मजदूरों की कमर टूट जाएगी।
एनजीटी के पुराने वाहनों पर आदेश से ट्रैक्टर को मुक्त किया जाये।सभी वाहनों की समय सीमा15 वर्ष की जाये।और भारतीय जनता पार्टी के घोषणा पत्र के अनुसार किसानों की फसल लागत मूल्य में50प्रतिशत लाभ जोड़कर न्यूनतम समर्थन मूल्य के आधीन लाया जाए।किसानों को आवारा पशुओं से निजात दिलाई जाए।प्रदेश में अन्ना प्रथा पर रोक लगाई जाए।प्रदेश में आलू,गन्ना,धान के किसान को बोनस दिया जाए।आंदोलन के दौरान किसानों पर लगे सभी मुकदमे वापस लिये जाए।जनपद कुशीनगर एवं फैजाबाद, कानपुर, ललितपुर में किसानों पर लगायें गये झूठे मुकदमे समाप्त किये जायें।जेल में बन्द किसानों को रिहा किया जाय।
आशा है कि सरकार सभी बिन्दुओ पर वार्ता कर समस्याओं का समाधान निकालने का प्रयास करेगी।समस्याओं के तक भाकियू का आंदोलन जारी रहेगा।

आंदोलन में प्रमुख रूप से मौजूद रहे
*डॉ दुजेन्द्र सिंह, कृष्ण गोपाल करमेर, भगवान दास मास्टर, देवेन्द कुमार विदुआ, भारत भूषण तिवारी, भानसिंह, माधव सिंह, राजकुमार, जगदीश मास्टर, अमृत सिंह,सतीश तिवारी, नरेन्द्र मिश्रा, राधाशरण,गुलाब सिंह, ताराचन्द, अजय बरसार*
आदि सभी धरना स्थल पर मौजूद रहे।

Post A Comment: