न्यू इंडिया योजना में शिवहर का नाम न होना दुर्भाग्यपूर्ण-- राणा रत्नाकर
दिलीप पाण्डेय की रिपोर्ट - शिवहर - पूर्व विधायक ठाकुर राणा रत्नाकर जी एक बयान देकर बताये की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2022 तक न्यू इंडिया बनाने का नारा दिया है! इस नारे को जमीन पर उतारने के लिए सरकार ने अगले पांच सालों में देश के सर्वाधिक पिछड़े 115 जिलों के कायाकल्प करने का संकल्प भी लिया है! इस योजना में झारखंड के 19 और बिहार के 13 जिला भी शामिल हैं! जिसमें बिहार और झारखंड के खगड़िया, बेगूसराय, कटिहार, पूर्णिया, अररिया, सीतामढी, शेखपुरा, मुजफ्फरपुर, नवादा, औरंगाबाद, गया,बांका और जमुई के साथ, झारखंड के साहिबगंज,पाकुड,गोड्डा,पश्चमी और पूर्वी सिंहभूम, चतरा,पलामू, बोकारो, गढवा, दुमका, रामगढ़, गिरिडीह, हजारीबाग, लातेहार, रांची, लोहरदग्गा, सिमडेगा, खूंटी और गुमला आदि जिला को भी है!
परंतु इस योजनाओ में बिहार के सबसे छोटा जिला शिवहर को वंचित रखा गया है!
श्री  राणा ने कहा कि ये वो जिला हैं जहॉ के कई वीर सपूतो ने अपनी कुर्बानी देकर अंग्रेजों के चुंगल से देश को आजादी दिलाई हैं और शिवहर का नाम गौरवान्वित किया है! इस जिला में शिक्षा, स्वास्थ्य के साथ बिजली व पानी तथा सड़क आदि जैसे बुनियादी सुविधाओं का आभाव है! उन्होंने कहा कि देश को सर्वाधिक कायाकल्प करने की योजनाओ में शिवहर जिला को वंचित रखना दुर्भाग्यपूर्ण है और अगले 5 सालों में देश के अन्य जिला को कायाकल्प किया जाना ऊँट के मुँह में जीरा की जैसी बात है!

Post A Comment: