सौरभ मिश्रा की रिपोर्ट :
कानपुर देहात रसूलाबाद तहसील के सिमरामऊ की साधन सहकारी समिति में लगभग दो वर्ष से ताला लटक रहा है।चार लाख रूपये की गबन की वसूली के बाद भी समिति नही खुल रही है।वहीँ समिति न खुलने से खाद व बीज के लिए किसान भटक रहे है।समिति में खाद के लिये दो गोदाम दो कार्यालय बनाये गए है।सहकारी समिति में सिमरामऊ, मुरलीपुर, अपौना, बड़ापूर्वा, छोटापूर्वा,बढ़ईनपुर्वा, भौरा,बिजईपुर, गुलाबपुरवा आदि गाँव शामिल किये गए है।समिति से किसानो को समिति से ऋण पर खाद दी जाती थी।नगद भुगतान पर भी खाद मुहैया की जाती थी।समिति में चार लाख रुपये गबन की राशि की वसूली के बाद भी समिति चालू नही हो सकी है।समिति में दो साल से ताला लटका हुआ है।वही समिति सचिव भोला सिंह से गबन राशि की वसूली के बाद भी समिति का संचालन अब भी बंद है।देखरेख के अभाव समिति भवन क्षतिग्रस्त हो रहा है।किसानों को खाद बीज के लिए भटकना पद रहा है।वही गाँव के छुन्ना मिश्रा,शुशील सिंह गौर,केशव मिश्रा,आदि लोगों ने बताया की सरकारी समिति बन्द होने से खाद बीज के लिए दिक्कत उठानी पड़ रही है।समिति अध्यक्ष उदय सिंह गौर का कहना है।क़ि सहायक निबंधक सहकारिता में समिति संचालित करने का अनुरोध किया गया है।

Post A Comment: