विनय कुमार मिश्र
रिठिया, हरखापुर और पिपराइच के 300 किसानों ने भरा सहमति पत्र।
गोरखपुर।महानगर में कूड़ाघाट स्थित गन्ना शोध संस्थान की 112 एकड़ जमीन उत्तर प्रदेश सरकार ने एम्स के लिए दे दी है। संस्थान के अधिकारी कार्यालय भवन की तलाश कर रहे हैं। संस्थान ने सदर तहसील क्षेत्र स्थित रिठिया, हरखापुर और पिपराइच गांवों के किसानों की जमीन को अपने उपयोग के लिए चिह्नित किया है।प्रशासनिक सूत्रों के अनुसार इन तीनों गांवों की सीमा पर गन्ना शोध संस्थान के लिए 52 एकड़ जमीन अधिगृहीत की जानी है जिसकी प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। रिठिया, हरखापुर और पिपराइच के 630 किसान चिह्नित किए गए हैं जिनकी जमीन अधिगृहीत की जानी है। गन्ना शोध संस्थान इन किसानों से पहले सहमति पत्र भरवा रहा है ताकि बाद में किसी प्रकार की अड़चन न आए।अब तक 300 से अधिक किसानों ने सहमति पत्र भर दिया है। जिम्मेदारों का कहना है कि सभी किसानों की सहमति के बाद जमीन का मुआवजा देकर उसे अधिगृहीत कर लिया जाएगा।
पिपराइच की बंद पड़ी पुरानी चीनी मिल की ही जमीन पर अब नई चीनी मिल बन रही है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने चीनी मिल का शिलान्यास कर दिया है। इसके लिए सरकार ने धन भी आवंटित कर दिया है।चीनी मिल के साथ लगेगी डिस्ट्रीलरी और पावर प्लांट
शासन ने चीनी मिल की उपयोगिता बरकरार बनाए रखने और उसके संचालन में आगे दिक्कतें न आए इसके लिए साथ में ही डिस्ट्रीलरी और पावर प्लांट भी लगाने का फैसला लिया है। 

Post A Comment: