वैशाली जिला के बिदुपुर प्रखंड  क्षेत्र में जन्मे स्वतंत्रता सेनानी  रामचंद्र प्रसाद साह उर्फ बजरंगबली जी की विधवा पत्नी मुनकीया देवी को सर्व कानू समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष संजय सागर व उनके टीम ने फुल माला व अंगवस्त्र देकर सम्मानित किया। आजादी के पिछले कई दशकों से राज्य सरकार व केंद्र सरकार के उदासीन रवैया एवं उपेक्षा के कारण स्वतंत्रता सेनानी का नाम गुमनामी के चादर में सिमट गया था।1944 की आजादी के लड़ाई में शामिल हुए गुमनाम योद्धा एवं स्वतंत्रता सेनानी स्वर्गीय रामचंद्र प्रसाद साह उर्फ बजरंगबली जी के निवास स्थान स्थित बिदुपूर पुरानी बाज़ार में बीते गुरुवार की देर रात्रि करीब 11 बजे सर्व कानू समाज की 5 सदस्य टीम आ पहुंची। देखते ही सेनानी के पत्नी और परिजनों को उनकी पैर तले जमीन खिसक गयी। उन्होंने श्री रामचंद्र प्रसाद साह की प्रतिमा पर पुष्पांजलि कर उनकी विधवा पत्नी मुनकिया देवी को फूल माला अंगवस्त्र देकर सम्मानित किया । इस दौरान सेनानी की पत्नी बोली "बेटा इतने दिन कहां थे, "आज याद आई है मां की" ,बेटा डरना मत- कमजोर मत पड़ना, "मेरा आशीर्वाद तुम्हारे साथ है, इस मौके पर सर्व कानू समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष संजय सागर ने बताया कि बड़ी दुख: की बात यह है कि 112 साल में इनको इतिहास में दर्ज नहीं करा पाए और ना ही सम्मान दिला पाए। उन्होंने कहा कि मैं राज्य सरकार और केंद्र सरकार से अपील करता हूं कि जल्द से जल्द समान पेंशन दी जायें। नही तो आखरी केंद्र सरकार से दिल्ली में मैं लड़ाई लरुँगा । इस दौरान सर्व कानू समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष संजय सागर प्रदेश अध्यक्ष पन्नालाल कानू, मनोज यादव, रमता के पिता राधेश्याम साह,मनीष जी, पूर्व जिला पार्षद शत्रुधन प्रसाद गुप्ता ,सेनानी के परिजन शशि भुषण प्रसाद,क्रांति कुमार,प्रवीन कुमार, एंव गणिनाथ न्यास समिति के कोषाध्यक्ष विद्यानंद साह,अशोक साह,मिथिलेश साह,लालबाबू साह, मिथुन आदी उपस्थित थें।

Post A Comment: