अमित कुमार यादव की रिपोर्ट नई दिल्ली 
यमुनापार के न्यू उस्मानपुर इलाके में मंगलवार देर रात एक मकान में आग लग गई। आग की इस घटना में प्रॉपर्टी डीलर सहित परिवार के सभी चार सदस्य फंस गए जिनमें से दम घुटने से डीलर की मौत हो गई, जबकि पत्नी व दोनों बच्चियों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। आशंका जताई जा रही है कि तीसरी मंजिल की रसोई से आग लगी, जिसने पूरी बिल्डिंग को कब्जे में ले लिया। बहरहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है।
हादसे में मारे गए शख्स की पहचान 54 वर्षीय सतपाल के रूप में हुई है। सतपाल प्रॉपर्टी डीलर था। वहीं घायलों में उसकी पत्नी 50 वर्षीय जयश्री व दो बेटियां पूजा और हिमांशी शामिल हैं। इनका अस्पताल में इलाज जारी है। माना जा रहा है कि सतपाल की धुंए में दम घुटने से मौत हुई। जबकि उसकी पत्नी व बेटियां 15 से 20 फीसदी झुलसे हैं। न्यू उस्मानपुर थाना पुलिस मामला दर्ज कर छानबीन कर रही है।
हादसे में मारा गया प्रॉपर्टी डीलर सतपाल परिवार के साथ न्यू उस्मानपुर इलाके में ब्रह्मपुरी स्थित गली नंबर-10 एक मकान की चौथी मंजिल पर किराए पर रहता था।
सतपाल के परिवार में पत्नी जयश्री, दो बेटियां हिमांशी, पूजा के अलावा एक बड़ा बेटा कृष्णा गोपाल है। कृष्ण अपनी पत्नी के साथ अलग रहता है। सतपाल का प्रॉपर्टी के अलावा मोटर के कुछ पाट्र्स बनाने का कारोबार था। 
हादसे के वक्त परिवार सो रहा था
मंगलवार रात को सतपाल अपने परिवार के साथ घर में सो रहे थे। इस बीच रात करीब ढाई बजे रात तीसरी मंजिल पर रहने वाले रमेशचंद के मकान में आग लग गई। आग लगते ही इस मकान के भूतल सहित अन्य मंजिलों पर रहने वाले सभी परिवार सुरक्षित नीचे आ गए। लेकिन सतपाल व उनके परिवार के सदस्यों की नींद काफी देर से खुली। हालांकि इसके बाद परिवार ने नीचे उतरने का प्रयास भी किया, लेकिन वह कामयाब नहीं हो गए और सभी चारों वहीं बेहोश होकर गिर गए।
आग बुझा फायरकर्मी ले गए अस्पताल
इस बीच आग लगने की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंचे फायरकर्मियों ने करीब घंटे बाद भर की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया और मकान में फंसे सतपाल सहित परिवार के सभी सदस्यों को जगप्रवेशचंद अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टरों ने सतपाल को मृत घोषित कर दिया, वहीं घायल पत्नी व बेटियों को एलएनजेपी अस्पताल में भर्ती करा दिया। तीनों की भी हालत गंभीर है। हालांकि फिलहाल खतरे से बाहर बताए जा रहे हैं। 
रात ही लुधियाना से घर लौटे थे सतपाल 
प्रॉपटी का काम देखने वाले सतपाल पिछले कुछ दिनों से लुधियाना गए हुए थे। मंगलवार रात ही वह न्यू उस्मानपुर स्थित अपने घर पहुंचे थे।
घर पहुंचने के चंद घंटो बाद ही वह हादसे का शिकार हो गए। सतपाल के रिश्तेदारों ने बताया कि आग लगने के बाद जब परिवार की आंख खुली तो सतपाल अपनी बेटियों और पत्नी को बचाने में लग गए। लेकिन आग की लपटों ने चौथी मंजिल को भी कब्जे में ले लिया तो धुएं के कारण वह बेहोश हो गए और उनका दम घुट गया। वहीं उनकी पत्नी और दोनों बेटियों ने नीचे उतरने का प्रयास किया, लेकिन वे आग की चपेट में आने के बाद बेहोश हो गईं। 
लोगों ने भी निकालने का किया प्रयास
स्थानीय लोगों ने भी इस मकान में आग के बीच ही घुसकर सतपाल व उसके परिवार को निकालने का प्रयास किया, लेकिन वह कामयाब नहीं हो पाए। इस बीच मौके पर पहुंचे दमकल कर्मियों व पुलिस ने किसी तरह से आग पर काबू पाकर सतपाल व उनकी पत्नी व बच्चों को बाहर तो निकाला लेकिन तबतक चारों की हालत काफी गंभीर हो चुकी थी और अस्तपाल ले जाने पर डॉक्टरों ने सतपाल को मृत घोषित कर दिया।

Post A Comment: