कानपुर :
एनआईए के इनपुट पर कानपुर पुलिस ने कार्यवाही करते हुये प्रदेश में पुराने नोटों की सबसे बड़ी खेप जब्त की है। पुलिस ने शहर के नामी बिल्डर व कपड़ा कारोबारी और हैदराबाद, पूर्वाचल के मनी एक्सचेंजर समेत 7 लोगों को करीब 90 करोड़ रुपये के पुराने नोटों के साथ पकड़ा। मेरठ में पिछले दिनों बिल्डर संजीव मित्तल के पास से पुलिस ने 25 करोड़ के पुराने नोट बरामद किए थे। इसके बाद एनआईए को जानकारी मिली थी कि यूपी में कानपुर समेत कई जिलों में मनीचेंजर गैंग सक्रिय हैं, जो औने-पौने दाम पर पुरानी करेंसी को नई करेंसी में बदल रहे हैं। इसकी सूचना पुख्ता होने पर एनआईए अफसरों ने आईजी आलोक सिंह और एसएसपी अखिलेश कुमार से संपर्क किया। अफसरों ने संगठित टीम बनाई एसपी पश्चिम डॉ. गौरव ग्रोवर और एसपी पूर्वी अनुराग आर्या व आईजी की क्राइम ब्रान्च टीम के साथ 80 फीट रोड स्थित गगन होटल पर छापा मारकर दो कमरों से 6 लोगों को गिरफ्तार किया। फिर टीम ने स्वरूपनगर, गुमटी, जनरलगंज स्थित व्यापारियों के प्रतिष्ठानों में छापेमारी की यहां से एक अन्य व्यक्ति को पकड़ा नकदी स्वरूपनगर व जनरलगंज स्थित आफिस से बरामद हुई है। पुलिस ने होटल के रिकॉर्ड और सीसीटीवी फुटेज कब्जे में लिए हैं। नोटबंदी के 14 माह बीतने के बाद भी पुराने नोट का निस्तारण न करने के कारणों व इतनी बड़ी रकम कहां खपाने की तैयारी थी, इसको लेकर देर रात तक पुलिस पूछताछ कर रही है। आयकर टीम भी पकड़े गए लोगों से पूछताछ व बरामद रकम की गिनती करने में जुटी है। पकड़े गए लोगों में स्वरूप नगर के रहने वाले नामी बिल्डर व कपड़ा कारोबारी का लड़का है।

Post A Comment: