लखनऊ
मडि़यावं फैजुल्लागंज अंतरगत कई   कोटे दार हैं जो बिना सरकारी आदेश अनुसार नित नए कानून बता जनता को भ्रमित कर या राशन देने से मना करते हैं। या जनता पर सरकारी रौब दिखा कर राशन घटतौली कर प्रति माह २०हजार का राशन ब्लैक कर गरीबों के पेट पर लात मार रहे है। सरकार द्रारा कानून के अनुसार सभी कार्ड घर की मुखिया महिला को बनाया गया बाकी समस्त परिवार के आधार लिंक कर राशन कार्ड सत्यापन किए गए।परंतु ज्यादा तर कोटेदारो ने मुखिया महीला को कोटे पर लाना अनिवार्य कर रखा है। जिस के कारण अधिक तर मुस्लिम महिलाए जो घरों से बाहर निकलती नही या कम निकलती हैं उन का राशन लगभग हर माह कोटेदारों के गबन मे चला जाता है।अधिकारियों का हिस्सा पहुचने के कारण कोई अधिकारी कभी जांच तक नही करता और अगर करता भी है तो मात्र दिखावा भर,
देखते -देखते जनता का खून चूसने वाले कोटेदार दिन दूनी रात चौगुनी कमाई कर रहे है। न प्रशासन द्रारा इन पर कोई कार्यवाही होती है न भ्रष्ट कोटे दारो के खिलाफ ऐक्शन।सदियो से कोटेदार अनपढ जाहिल जनता को लूट कर अपनी तिजोरियां भरते रहे है यही हमारे देश के गरीबों का द्रुरभाग्य है।

Post A Comment: