विनय कुमार मिश्र
गोरखपुर।31 दिसंबर तक सड़कों को गड्ढा मुक्त करने की सरकारी तारीख न जाने कब की खत्म हो चुकी है लेकिन सड़कों से गढ्ढे मुक्त होने का नाम ही नही ले रहे है।क्यो न सड़क नई ही हो।उपमुख्यमंत्री के इस धमकी से यहाँ कोई डरने वाला नही है कि अगर एक साल के अंदर सड़क टूटी तो जिम्मेदारो पर कार्यवाही की जायेगी। उपमुख्यमंत्री ने सड़कों की मिल रही शिकायतों के प्रति ही ऐसा कहा था लेकिन अफसोस कि अब भी जिम्मेदार सो रहे है और ठेकेदार मनमाने तरीके से सड़कों का निर्माण कर रहे है।चौरी चौरा के जे बी महाजन डिग्री कालेज से निकलकर पोखरभिण्डा,चौरी,बदुरहिया आदि गाँवों को जाने वाली सड़क पर वर्षों बाद निर्माण कार्य कराया तो गया लेकिन एक किलोमीटर तक।क्योकिं एक ठेकेदार को इतने ही का टेडर मिलता है।वह उतना कराकर बाकी सड़क उजड़ी और बदहाल छोड़ दिया है।बाकी का निर्माण कौन कराएगा इसका टेंडर किसको मिला है पता ही नहीं है किसी को।इस अधूरी सड़क से गुजरना काफी मुश्किल है । दूसरी तरफ जो सड़क बनी है उस में जगह जगह सडके टूट रही हैं इन सड़कों में कई जगह गड्ढे अभी से बनने शुरू हो गए हैं कई जगहों को तो मिट्टी डालकर ढक दिया गया है ताकि कमियां उजागर ना हो।अगर ऐसी ही सड़के बनती और उखड़ती गई तो फिर कितने दिन की मेहमान रहेंगी ये सड़के सोचा जा सकता है।क्षेत्र के रामपुरा से पंडितपुरा जाने वाली सड़कों के अलावा अन्य संपर्क मार्ग वाली सड़के भी इसी हाल में है।जो जैसे बन रही है वैसे उजड़ना भी शुरू कर दे रही है।समझ में नही आता की आखिर जिम्मेदार कहाँ सो गये है कि इतनी बड़ी लापरवाही उन्हें नही दिख रही है।इस सम्बंध में जब किसी जिम्मेदार से सम्पर्क करने की कोशिश की गई तो सम्पर्क नही हो सका।

Post A Comment: