गोरखपुर में धूमधाम से मनाया गया गुरु गोविंद सिंह का जन्म दिन

  विनय कुमार मिश्र

गोरखपुर।शुक्रवार को दिग्विजयनाथ इन्टर कालेज चौकमाफी  गोरखपुर में सिक्खों के दशवे गुरु, गुरुगोविन्द सिंह साहेब के जन्म दिन को बड़े ही हर्सोल्लास के साथ मनाया गया जिसकी अध्यक्षता विद्यालय के प्रधानाचार्य श्री केशव प्रसाद तिवारी जी ने किया। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए विद्यालय के वरिष्ठ अध्यापक श्री अश्विनी कुमार मिश्र ने बताया कि गुरु गोविन्द सिंह के बचपन का नाम गोविन्द राय सोधी था इनका जन्म 05 जनवरी सन1666 पटना साहिब, भारत में हुआ।श्री मिश्र जी इनके उत्कृष्ठ कार्यो का वर्णन करते हुए कहा कि गुरु गोविन्द सिंह साहेब ने खालसा पन्थ की स्थापना की तथा सिख पुरुषों को अपने साथ तलवार रखने का अधिकार दिलाया।गुरु गोविन्द सिंह, सिख समुदाय के आखिरी गुरु थे, उन्हे इसी कारण इन्हें गुरु ग्रंथ साहिब के नाम से जाना जाता है. तत्पश्चात विद्यालय के प्रधानाचार्य श्री केशव प्रसाद तिवारी जी विद्यालय के छात्रों /छात्राओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि गुरु गोविन्द सिंह साहेब अपने पिता तेग बहादुर, माता गुजरी देवी के इकलौते पुत्र थे।अपने मृत्यु के पहले ही तेग बहादुर ने गुरु गोविन्द सिंह साहेब को अपना उत्राधिकारी नियुक्त कर दिया।बाद में 29मार्च 1676में गोविन्द सिंह 10वे गुरु बन गये।इन्होंने कई युद्घ मुगलो से लडे. श्री केशव प्रसाद तिवारी जी ने कहा कि सिरहिन्द के मुस्लिम गवर्नर इनके माता और दो पुत्रो को बन्दी बना लिया।इनके पुत्रो को इस्लाम धर्म कबूल न करने पर जिन्दा दफ़ना दिया जिससे दुखी होकर इनके माता का निधन हो गया।गुरु शोभा के अनुसार गुरु गोविन्द सिंह साहेब के दिल पर गहरी चोट के कारण 07अक्तूबर 1708 में 42 वर्ष में ही इनकी मृत्यु हो गई।कार्यक्रम में विद्यालय के वरिष्ठ अध्यापक श्री मुक्तनाथ,ओम प्रकाश चौधरी,आशुतोष कुमार त्रिपाठी, सुबास चंद गुप्ता आदि शिक्षक उपस्थित रहे।
दुष्कर्म के आरोपी के घर से मिली पचास लाख रूपये की अष्टधातु की मूर्ति
 
गोरखपुर।चौरीचौरा क्षेत्र में दलित छात्रा के साथ दुष्कर्म के आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। गुरुवार की रात फुटहवाइनार के पास से रेप के आरोपी के साथ एक अन्य युवक को गिरफ्तार कर पुलिस ने चोरी की गई 50 लाख की बेशकीमती अष्टधातु की मूर्ति बरामद की।उनके पास से मिले दो बाकइ भी चोरी का मिला।दोनों बाइक कैंट क्षेत्र से चोरी की गई थी।पुलिस पूछताछ के बाद उनके तीसरे साथी की तलाश शुरू कर दी है।एसपी गणेश शाहा ने मामले का खुलासा करतें हुये बताया कि पकड़ा गया एक आरोपी रेप के मामले में दोषी था जिसका पुलिस को तलाश थी।चौरी चौरा के फुटहवाइनार के पास चढ़े हत्थे।इनके पास से चोरी की दो बाइक भी हुई बरामद हुई है।एसपी उत्तरी गणेश शाहा शुक्रवार को पुलिस लाइन में इस मामले का खुलासा करते हुए बताया कि चौरीचौरा थानेदार ब्रजेश सिंह यादव को मुखबिर से सूचना मिली कि दो दिन पहले दलित छात्रा से दुष्कर्म करने का आरोपी झंगहा क्षेत्र की ओर से तरकुलहा माता मंदिर होते हुए नेशनल हाईवे पर जाने वाला है।इस सूचना पर पुलिस टीम ने फुटहवाइनार के पास घेराबंदी कर वाहनों की चेकिंग शुरू कर दी। इस दौरान पुलिस ने दो अभियुक्तों को एक बिना नंबर की बाइक पर आते देख दौड़ाकर पकड़ लिया। तलाशी के दौरान उनके पास से लड्डू गोपाल की अष्टधातु की बेशकीमती मूर्ति बरामद हुई। पुलिस ने बाइक को भी कब्जे में ले लिया। पूछताछ में पता चला कि बाइक चोरी की है। वहीं, उनके निशानदेही पर पुलिस ने एक और चोरी की बाइक बरामद कर ली। दोनों कैंट क्षेत्र से चोरी की गई थी। जिनका मुकदमा दर्ज है। पकड़े गए अभियुक्तों की पहचान चौरीचौरा के रामपुर रकबा पंडितपुरा के संदीप गौतम और दूसरे की झंगहा के रसूलपुर के नरेंद्र यादव के रुप में हुई। संदीप रेप के एक मामले में भी वांक्षित चल रहा था। पुलिस उसकी तलाश में लगी हुई थी। पूछताछ के दौरान दोनों अभियुक्तों ने बताया कि यह मूर्ति उन्हें चौरीचौरा के महदेवा जंगल निवासी आकाश चौधरी ने करीब एक साल पहले दी थी। पुलिस आकाश की तलाश कर रही है।बताया जा रहा है कि दोनों को इस मूर्ति को नेपाल में बेचने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। आरोपी मूर्ति का सैंपल नेपाल के व्यापारी को दिखाकर उसकी कीमत भी लगा चुके थे और नेपाल ले जाकर बेचने की फिराक में थे कि इससे पहले पुलिस के हत्थे चढ़ गए।

Post A Comment: