युवा दिवस के अवसर पर *"डिवाईन इंडिया सायंस एण्ड स्प्रिचुअल हैप्पीनेस एसोसिएशन- दिशा"*के द्वार एक सकारात्मक परिचर्चा का आयोजन रखा गया। जिसका विषय *"संकल्प एवं ध्यान से जीवन निर्माण"*रखा गया। कार्यक्रम में सर्वप्रथम *स्वामी विवेकानन्द जयंती* के सुअवसर पर उनके चित्र पर माल्यार्पण किया गया।एवं दिशा के संस्थापक सचिव आचार्य पं० राजेश कुमार तिवारी द्वारा दीप प्रज्वलन किया गया। श्री तिवारी ने परिचर्चा में भाग लेते हुए स्वामी जी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए उनके बताये हुए ज्ञान को असली ज्ञान दीपक समझकर हृदय के अन्दर प्रज्वलित करने को कहा‌।इन्होंने स्वामी जी के साहित्यों में डुबकी लगाते हुए अपने जीवन में *"संकल्प एवं ध्यान"* को अभिन्न अंग बनाने कि बात कहा।साथ हि उपस्थित लोगों को प्रतिदिन ध्यान करते रहने का संकल्प दिलवाया।कार्यक्रम में श्रीमती सावित्री देवी ने लोगों को संकल्पवान होने से अनेक फायदे बताये।परिचर्चा में श्रीमती सविता तिवारी ने उपस्थित लोगों को संकल्प एवं ध्यान के द्वारा रोग निवारण कि बात समझाईं। प्रसिद्ध प्राणिक हीलर पं०उमेश तिवारी लोगों को संकल्प एवं ध्यान के फायदे बताते हुए दिव्य प्रयोग करवाया। श्री उमेश जी ने कहा कि हम अपने संकल्पों के द्वारा ध्यान के माध्यम से आज भी स्वामी जी के विचारों को ग्रहण कर सकते हैं।खासकर जयंती के दिन ज्यादा। चुकी ब्रह्माण्डीय शक्तियाँ खासकर किसी के जन्मदिवस पर उस तक यानी जिनका जन्मदिन है एवं उनके लोगों तक,उन्हें याद करने वाले लोगों तक पहुँचती है। हम अगर सहजता एवं श्रद्धापूर्वक  30-35 मिनट का भी ध्यान करते हैं,तो हम दिव्य ऊर्जा को प्राप्त कर पाते हैं।कार्यक्रम को सफल बनाने में श्रीमती पुनम देवी,मौसम,सोनी,अन्नपूर्णा, अनुराधा,शक्ति सौम्या,शिशिर कुमार बाबा,शैलेश्वर मिश्रा,प्रबोध तिवारी,प्रणव,अर्णव,सूर्यमित,
जिम्मी,अमित कुमार,श्यामनारायण पासवान इत्यादि का रहा।:-
समाचार लेख साभार:-
 राजेश कुमार तिवारी
(प्रशिक्षु पत्रकार),
सेल्फ लाईट/दिव्यात्म प्रकाश.

Post A Comment: