पत्रकार छत्रपति हत्या मामले में नहीं हुई फाइनल बहस, 17 मार्च को मामले की सुनवाई


डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम से जुड़े पत्रकार रामचंद्र छत्रपति हत्या मामले में आज पंचकूला की विशेष सीबीआई अदालत में सुनवाई के दौरान दोनों पक्षों में फाइनल बहस नहीं हो सकी। मामले में एक एहम गवाह राम रहीम का पूर्व ड्राइवर खट्टा सिंह की दोबारा गवाही की मांग को लेकर लगाई गई याचिका पर हाईकोर्ट में चल रही सुनवाई के चलते आज कोई कार्रवाई नहीं हुई। कोर्ट अब 17 मार्च को मामले की अगली सुनवाई करेगी। सुनवाई के दौरान गुरमीत राम रहीम वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए जबकि मामले से जुड़े अन्य आरोपी कृष्णलाल, निर्मल सिंह व कुलदीप सिंह व्यक्तिगत रूप से पेश हुए।
उल्लेखनीय है कि साध्वी यौन शोषण मामले में सुनारिया जेल में सजा काट रहे गुरमीत राम रहीम की इस केस के कारण मुश्किलें बढ़ी हुई है। डेरामुखी से जुड़े उक्त केस पर पूरे देश की निगाह है। मामले में जिस तेजी से अदालती प्रक्रिया चल रही है, उससे सभी को फैसलों की जल्द उम्मीद है। गुरमीत राम रहीम पर सिरसा के पत्रकार रामचंद्र छत्रपति की हत्या के आरोप का है। छत्रपति अपने अखबार 'पूरा सच' में अक्सर डेरा सच्चा सौदा में हो रहे अन्याय और अत्याचार के बारे में लिखा करते थे। 'पूरा सच' अखबार ने ही साध्वी का वो खत छापा था जिसमें सिरसा स्थित डेरा मुख्यालय में महिलाओं का यौन उत्पीड़न की बात लिखी गई थी। उन्हें अक्तूबर 2002 में उन्हें गोली मार दी गई थी। हत्या के पीछे राम रहीम को बताया गया। इस मामले में गुरमीत राम रहीम को मुख्य साजिशकर्ता के तौर पर सीबीआई ने नामजद किया है। जिस पर काफी समय से मामला कोर्ट में विचाराधीन है। अब इस मामले में अंतिम बहस चल रही है जिसके बाद फैसला आने पर राम रहीम की मुश्किलें अौर बढ़ सकती हैं।

Post A Comment: