समस्तीपुर से राकेश कुमार की रिपोर्ट :-----
"समस्तीपुर जिलेवासियों' को जल्द मिलेगी इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक' की सुविधा" 
           
डिजिटलाइजेशन और प्रतिस्पर्धा की दौर में डाक विभाग भी सरकार के 'डिजिटल-इंडिया  परियोजना' से कदम से कदम मिलाकर चल रहा हैं। माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी की पहल पर 'कैशलेस ट्रांजेक्शन' को बढ़ावा देने और केंद्र सरकार के द्वारा लिए गए नये निर्णयानुसार ग्राहकों को बैंकों तथा अन्य वित्तीय संस्थानों की तर्ज पर डाकघरों के माध्यम से बैंकिंग सुविधा उपलब्ध कराने के उद्देश्य से बहुत जल्द ही इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक' की शुरुआत समस्तीपुर प्रधान डाकघर से होने जा रही है,जिसकी तैयारी अंतिम चरण में है। प्रधान डाकघर के जनसम्पर्क निरीक्षक सह प्रमंडलीय मार्केटिंग एक्सक्यूटिव शैलेश कुमार सिंह ने उक्त बातें आज प्रधान डाकघर पर उपस्थित ग्राहको को संबोधित करते हुए बताया। उन्होंने कहा कि इस सेवा के शुरू हो जाने से किसी भी राष्ट्रीयकृत सरकारी/गैर सरकारी  बैंक,डाकघर या 'इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक' द्वारा जारी किये गए रुपे, वीसा,मास्टेरो एटीएम-कार्ड के माध्यम से देश के किसी भी कोने से सेवा या भुगतान लिया जा सकता है।
 श्री सिंह ने आगे बताया कि देश के तकनीकी आर्थिक उन्नयन हेतु  केंद्र सरकार के द्वारा लिये गये इस निर्णय का एकमात्र उद्देश्य शहर से लेकर गांव-देहात में रहने वाले देश की अधिसंख्य आबादी में बचत की आदत डालना एवं उन रुपये-पैसों की सुरक्षा के साथ-साथ देश का आर्थिक विकास करना है।         
      श्री सिंह ने आगे बताया कि 09 नवंबर 2016 को केंद्रीय मंत्रिमंडल की मंजूरी के उपरांत रिजर्व बैंक द्वारा पुराने सीरीज के 500/- और 1000/- रुपये के  नोटों की वापसी के निर्णय लागू होने के पश्चात देश मे रहनेवाले आम लोगों को पैसों की उपलब्धता में समस्याएं आने लगी थी , जिसके परिणाम स्वरूप बैंक या अन्य किसी संस्थान में पैसे जमा रहने के बावजूद लोगों की क्रय-शक्ति काफी प्रभावित होने लगी थी।   श्री सिंह ने आगे बताया कि 01 जून 2016 को केंद्रीय मंत्रिमंडल ने ‘भारतीय डाक विभाग’ के अंतर्गत ‘भारतीय डाक भुगतान बैंक’ की स्थापना को मंजूरी प्रदान की जो 650 शाखाओं की एक साथ स्थापना के साथ संपूर्ण भारत में अपनी सेवाएं प्रदान करेगी,जिसमे समस्तीपुर जिला भी शामिल है। भुगतान बैंक सामान्य बैंकों से भिन्न ऐसे डिजिटल बैंक हैं जो मोबाइल के माध्यम से उपभोक्ताओं की ऑनलाइन खरीददारी को सुगम बनाने के लिए पूर्व-भुगतान उपकरण (Pre-Paid Instrument-PPI) सुविधा प्रदान करते हैं।भुगतान बैंक सावधि जमाएं तथा आवर्ती जमाएं स्वीकार नहीं करते हैं, किंतु बचत खातों तथा चालू खातों के माध्यम से अधिकतम 1 लाख तक की मांग जमाएं प्राप्त कर सकते हैं।भुगतान बैंक ऋण सुविधा प्रदान नहीं करते हैं तथा क्रेडिट कार्ड जारी नहीं करते हैं, किंतु डेबिट कार्ड जारी कर सकते हैं।इस बदलाव के साथ ‘भारतीय डाक विभाग’ अपनी शाखाओं के सहयोग से एक व्यापारिक बैंक की भाति भुगतान संबंधी बैंकिंग सेवाएं प्रदान कर सकेगा।भारत सरकार द्वारा ‘भारतीय डाक भुगतान बैंक’ की स्थापना का उद्देश्य वित्तीय समावेशन के लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में ग्राहकों को विशेषतया बैंकिंग सुविधा से अछूते व दूर-दराज के ग्रामीण क्षेत्रों में आसान एवं सस्ती बैंकिंग सुविधा प्रदान करना है।भारतीय डाक विभाग इस भुगतान बैंक के माध्यम से बेसिक भुगतान बैंकिंग, फंड ट्रांसफर, एटीएम (ATM) सुविधा, प्रत्यक्ष लाभ अंतरण (DBT) भुगतान व टैक्स जमा करने जैसी सुविधाएं प्रदान करेगा।यह बैंक अन्य वित्तीय संस्थाओं के उत्पाद जैसे बीमा, म्युचुअल फंड व पेंशन उत्पादों को भी वितरित करेगा।बैंकों की ओर से बैंकिंग सहायक के रूप में कार्य करते हुए यह साधारण क्रेडिट उत्पाद तक पहुंच बढ़ाने के साथ-साथ बिजली, पानी, टेलीफोन आदि बिलों के भुगतान की सुविधा भी प्रदान करेगा।इस भुगतान बैंक की स्थापना के लिए भारत सरकार ने 800 करोड़ रु. की राशि स्वीकृत की थी , जिसमें से 400 करोड़ रुपये समता पूंजी (Equity) के रूप में तथा शेष 400 करोड़ रुपये अनुदान (Grant) के रूप में होगा।इस बैंक की सभी 650 शाखाओं को डाक विभाग की ग्रामीण शाखाओं से जोड़ा जाएगा, जिससे यह बैंक समग्र भारत में अपनी सेवाएं प्रदान कर सकेगा।भारत में वर्तमान समय में भारतीय डाक विभाग के लगभग 155000 (एक लाख पचपन हजार) डाकघरों का विशालतम नेटवर्क  हैं, जिनमें से लगभग1,39,000 ग्रामीण शाखाएं हैं।‘भारतीय डाक भुगतान बैंक’ यदि डाक विभाग की समस्त शाखाओं की मदद से अपनी बैंकिंग सेवा का विस्तार करने में सफल रहता है, तो यह विश्व का सबसे बड़ा बैंक हो जाएगा।यह एक भुगतान बैंक होने के कारण ऋण संबंधी सेवाएं प्रदान नहीं कर सकता है।। 
  समस्तीपुर में  'इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक' की शाखा की शुरुआत संभवतः अप्रैल 2018 से हो जाने के बाद जिले के सुदूर गावों में रहनेवाले समाज के अंतिम ब्यक्ति तक बैंकिंग सेवा के क्षेत्र में हम जहां एक ओर बचत-खातों की सुविधा तो दूसरी ओर ब्यापारी-वर्ग को कर्रेंट-अकाउंट का लाभ दे पाने में सक्षम होंगे। विश्व की विशालतम भारतीय डाक-ब्यवस्था के नेटवर्क के माध्यम का समुचित उपयोग कर हमारे ग्राहक बचत के माध्यम से अपना आर्थिक-विकास कर सकेंगे तथा देश के आर्थिक-उन्नयन में हमारा  महत्वपूर्ण योगदान होगा।                        अंत मे जनसम्पर्क निरीक्षक श्री सिंह ने लोगों से 'इंडिया पोस्ट पेमेन्ट बैंक' का ज्यादा से ज्यादा लाभ लेने की अपील किये

Post A Comment: