नही रहे वरिष्ठ पत्रकार नीलाभ मिश्रा


पटना से अनूप नारायण सिंह की रिपोर्ट :

बिहार से पत्रकारिता की शूरुआत कर राष्टीय फलक पर छा जाने वाले कलम के इस जादूगर को अश्रुपूरित श्रद्धाजंली.
वरिष्ठ पत्रकार और नेशनल हेराल्ड के संपादक नीलाभ मिश्रा का निधन शनिवार सुबह 7.30 बजे चेन्नई के अपोलो अस्पताल में हुआ। वह 57 वर्ष के थे। नीलाभ लंबे वक्त से नॉन एल्कोहॉलिक लीवर सिरॉसिस से जूझ रहे थे। तबियत ज्यादा बिगड़ने के बाद उन्हें चेन्नई के अपोलो अस्पताल में भर्ती कराया गया था। मल्टीपल ऑर्गन फेल्योर की वजह से लीवर ट्रांसप्लांट नहीं हो सका था।  24 फरवरी 2018 को उन्होंने चेन्नई के अस्पताल में अपनी आखिरी सांस ली। इस दौरान नीलाभ का परिवार और उनके दोस्त मौजूद रहे। नीलाभ के परिवार में उनकी पत्नी कविता श्रीवास्तव, भाई शैलोज कुमार, भाभी सुधा और भतीजी नवाशा शामिल हैं।  नीलाभ ने साल 2016 में नेशनल हेराल्ड को डिजिटल रुप देते हुए इसकी वेबसाइट लॉन्च की थी। नीलाभ, नेशनल हेराल्ड के अलावा नवजीवन और कौमी आवाज के डिजिटल काम को संभाल रहे थे। नेशनल हेराल्ड की स्थापना 1938 में प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने की थी।  नेशनल हेराल्ड की जिम्मेदारी संभालने से पहले नीलाभ का लंबा करियर रहा। वह कई सालों तक आउटलुक हिंदी के संपादक रहे। दिल्ली विश्वविद्यालय से अंग्रेजी की पढ़ाई करने के बाद नीलाभ ने अपने करियर की शुरूआत नवभारत टाइम्स से की थी। पटना में कुछ साल काम करने के बाद वह जयपुर में न्यूजटाइम के संवाददाता के तौर पर काम करते रहे। इसके बाद नीलाभ मिश्र ने 1998 में राजस्थान में इनाडू टीवी की लॉन्चिंग की। नीलाभ के निधन से मीडिया जगत में शोक की लहर दौड़ गई है।

Post A Comment: