जिलाधिकारी तथा पुलिस अधीक्षक द्वारा श्रावस्ती माॅडल पर चिन्हित महानपुर ग्राम का निरीक्षण
भूमि विवाद से सम्बन्धित सभी 09 प्रकरणों का निस्तारण।
सुलतानपुर से अरुण साहू की रिपोर्ट : 
 जिलाधिकारी संगीता सिंह तथा पुलिस अधीक्षक अमित वर्मा ने श्रावस्ती माॅडल पर चिन्हित थाना कोतवाली देहात अन्तर्गत महानपुर ग्राम का स्थलीय निरीक्षण किया तथा भूमि विवाद से सम्बन्धित प्रकरणों का दोनों पक्षों से वार्ता तथा मौके का निरीक्षण कर निस्तारण कराया। 
जिलाधिकारी ने ग्राम के निरीक्षण के समय पाया कि यहां पर भूमि विवाद से सम्बन्धित चकरोडों पर अतिक्रमण से सम्बन्धित 03 प्रकरण, नाली विवाद का प्रकरण, रास्ते में घूर गड्ढ़ा का प्रकरण, गांव की आबादी के अन्दर से जल निकासी का प्रकरण, नवीन परती पर अतिक्रमण एवं पट्टे की भूमि तथा तालाब पर अतिक्रमण से सम्बन्धित प्रकरण थे। संयुक्त टीम के निरीक्षण में पाया गया कि तालाब पर अतिक्रमण नहीं है। शेष अन्य प्रकरणों से सम्बन्धित अतिक्रमण को हटवाया गया। गांव के तुलसी राम के नाम से प्रधानमंत्री आवास (ग्रामीण) स्वीकृत हुआ है। वर्तमान समय में लाभार्थी के पास कोई भूमि उपलब्ध न होने के कारण आवास का निर्माण नहीं हो पा रहा है। राजस्व कर्मियों द्वारा जानकारी दी गयी कि तुलसी राम को पूर्व में भूमि का पट्टा दिया गया था, लेकिन उन्होंने अपनी पट्टे की भूमि को मासूक अली को बेंच दिया। तुलसीराम अनुसूचित जाति के व्यक्ति हैं, उनकी पट्टे की जमीन को बिना उपजिलाधिकारी की अनुमति के कोई व्यक्ति नहीं खरीद सकता। इस प्रकरण पर दोनों पक्षों से वार्ता के दौरान आपसी सहमति बनी तथा मासूक अली ने तुलसीराम को प्रधानमंत्री आवास निर्माण भूमि उपलब्ध कराने पर अपनी सहमति दी। इस मौके पर सभी उपस्थित ग्रामवासियों व प्रधान के साथ जिलाधिकारी , पुलिस अधीक्षक तथा उपजिलाधिकारी सदर ने सम्बन्धित भूमि का मौके पर स्थलीय निरीक्षण भी किया। 
जिलाधिकारी महोदया ने ग्राम में स्थित तालाब को मत्स्य पालन हेतु नियमानुसार पात्र व्यक्ति को पट्टा देने की कार्यवाही हेतु उपजिलाधिकारी सदर को निर्देशित किया। इस मौके पर ग्राम प्रधान ने जानकारी दी कि प्राथमिक विद्यालय महानपुर में बाउन्ड्रीवाल न होने के कारण समुचित साफ सफाई नहीं हो पाती तथा बच्चों का खेलकूद भी बाधित होता है। जिलाधिकारी महोदया ने पुलिस अधीक्षक के साथ प्राथमिक विद्यालय का भी निरीक्षण किया। उन्होंने प्राथमिक विद्यालय में शिक्षकों तथा छात्र/छात्राओं की उपस्थिति  व  एम.डी.एम. के बारे में जानकारी ली। विद्यालय के छात्र/छात्राओं द्वारा बताया गया कि यहां नियमित एम.डी.एम. बनता है और आज रोटी व सब्जी बनी थी। विद्यालय के सभी बच्चों को स्वेटर , ड्रेस , जूता मोजा , बैग व निःशुल्क पाठ्य पुस्तकों का वितरण किया गया। जिलाधिकारी महोदया ने बच्चों से पुस्तक पढ़वाकर पठन पाठन का जायजा लिया तथा शौचालय निर्माण के बारे में छात्र/छात्राओं को प्रेरित भी किया। विद्यालय में 02 शिक्षामित्र व एक प्रधानाध्यापक कार्यरत हैं तथा 102 बच्चे पंजीकृत हैं। 
जिलाधिकारी ने इस मौके पर चैपाल लगाकर ग्रामीणों को स्वच्छ भारत मिशन के उद्देश्यों पर प्रकाश डाला तथा गांव को खुले में शौच से मुक्त कराने हेतु शौचालय निर्माण करने हेतु प्रेरित किया। गांव के लगभग 20 प्रतिशत लोगों ने स्वतः शौचालय का निर्माण करवाया है। उन्होंने इन लोगों के सराहनीय कार्य के लिए ग्रामवासियों से ताली बजवाकर बधाई दी।  उन्होंने इस मौके पर मोहम्मद इकबाल खांन की अध्यक्षता में 05 सदस्यों की एक टीम भी गठित की, जो गांववासियों को प्रेरित कर शौचालय का निर्माण करवायेगी। उन्होंने ग्राम प्रधान तथा ग्रामवासियों से कहा कि जो लोग सक्षम हैं वह स्वतः अपना शौचालय बनवायें तथा जो व्यक्ति गरीब हैं और वे अपने आप शौचालय के निर्माण करवाने में असमर्थ हैं, वे शौचालय हेतु गड्ढ़ा खुदवायें, उन्हें शौचालय निर्माण हेतु धनराशि उपलब्ध करायी जायेगी। 
जिलाधिकारी  ने इस मौके पर एन.एच. 56 के निर्माण में जिन किसानों की जमीन अधिग्रहीत की गयी है उनके प्रतिकर भुगतान की समीक्षा की। उन्होंने समीक्षा में पाया कि 56 लोगों के बाउचर एन.एच. 56 कार्यालय में भुगतान हेतु भेजे जा चुके हैं, अवशेष 88 से सम्बन्धित बाउचर को उन्होंने  तीन दिन के अन्दर तैयार कर भेजने के निर्देश दिए।  इस गांव के 11  लोगों को प्रतिकर का भुगतान किया जा चुका है। निरीक्षण के समय उपजिलाधिकारी सदर प्रमोद पाण्डेय, जिला सूचना अधिकारी आर.बी.सिंह व ग्राम प्रधान सलीम सहित ग्रामीणजन उपस्थित थे।

Post A Comment: