सोनभद्र के ओबरा मे शिव की बारात मे झुम उठे श्रधालू
ब्यूरो सुभाष पाण्डेय
सवाददाता अनुज जायसवाल
सोनभद्र/ओबरा : महाशिवरात्रि के मौके पर बुधवार को सोनभद्र के ओबरा में शिव बारात निकाली गई। बारात को लेकर शिव भक्तों में जबरदस्त उत्साह देखने को मिला। कई दिनों से बारात की तैयारी में लगे लोगों ने आज शिवरात्रि के मौके पर जमकर डांस किया। थाना रोड चढ़ाई से शुरू होकर मैन चौराहे से निकलकर गैस गोदाम के रास्ते वीआईपी रोड होते हुए राममंदिर पहुची। राम मंदिर में शिव और पार्वती जी का बड़े विधि विधान से शादी हुई। बारात में सबसे आकर्षण केंद्र शिव और पार्वती की झांकी रही। जिसमे बस अड्डा, शीतल मंदिर मार्ग ओबरा और भलुआ टोला की झाकिया शामिल रही। इससे पहले शिव भक्तों ने सुबह से ही तैयारी कर रखी थी। इस खास मौके पर बाला जी समिति की तरफ से जलपान की व्यस्था कर रखी थी। गणेश के पापा गाने पर शिव-पार्वती जी ने जो डांस किया भक्तों का मन मोह लिया। जिसके बाद शिव भक्तों ने भी गणेश के पापा के गाने पर जमकर डांस किया। शिवरात्रि वह रात्रि है जिसका शिव तत्व से घनिष्ठ संबंध माना जाता है। शिवरात्रि को कालरात्रि भी कहा जाता है। शिव पुराण के ईशान संहिता में फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी की रात्रि में आदिदेव भगवान शिव करोड़ों सूर्य के समान प्रभाव वाले लिंग के रूप में प्रकट हुए थे। माना जाता है कि इस दिन भगवान शिव का विवाह माता पार्वती के साथ हुआ था और इसी के उपलक्ष्य में मंदिरों से भगवान शिव की बरात भी निकाली जाती है और विधि के साथ भगवान शिव और माता का विवाह किया जाता है। भगवान शिव भक्तों की हर इच्छा को अवश्य पूर्ण करते हैं। शिवरात्रि को महान अनुष्ठानों का दिन माना जाता है। ऊं नमः शिवाय का जितनी बार पाठ संभव हो, उतनी बार किया जाता है और रात्रि में चार पहरों की पूजा में अभिषेक में पहले पहर में दूध, दूसरे में दही, तीसरे में घी और चौथे में शहद का इस्तेमाल करना शुभ माना जाता है।

Post A Comment: