अनूप नारायण सिंह की रिपोर्ट :
अज्ञानता के अंधकार दूर करते अमरदीप झा गौतम

अपनी अलग सोच व काम के अलग अंदाज की वजह से अमरदीप झा गौतम ने एलिट इंस्टीच्यूट को शिखर तक पहुंचा दिया है. 
बच्चों के साथ सपने देखना, उसके सपने बुनना और फिर उन सपनों को अंजाम तक पहुंचाने के लिए दिन-रात की मेहनत का ही नतीजा है कि हर साल एलिट इंस्टीच्यूट देश को बेहतर इंजीनियर और डॉक्टर  देता रहा है.

सारा जीवन कालचक्र है.
आना-जाना यहां खेल है.
अपने उज्ज्वल लक्ष्य को देख,
रहा पुकार न कर अनदेख.
आशाओं के दीप जलाकर कर्म करो,
बस यही धर्म है… 

♤ तनाव में भी हंसना-हंसाना.

अगर 2017 के रिजल्ट पर नजर डालें, तो 172 जेईई-मेन, 36 जेईई-एडवांस, 63 नीट (मेडिकल) में क्वालिफाइड करवा चुके अमरदीप झा गौतम का सफर काफी लंबा है.
16 सालों से हर दिन बच्चों के बीच रहते, उनसे फ्रेंडली बातें करते, उनकी प्रॉब्लम को सुनते और फिर उस प्रॉब्लम को दूर करने में लग जाते.इस दौरान एक बार भी उनके चेहरे पर तनाव का भाव नहीं आता. एलिट इंस्टीच्यूट की सफलता के पीछे उनकी बेहतर सोच और बेहतर कर्म ही है कि वो आज बच्चों को बेहतर सुविधा के साथ-साथ बेहतर फ्यूचर प्रोवाइड करवा रहे हैं. 

♤ डेली-प्रैक्टिस पेपर (डी.पी.पी.) और एनिमेटेड-सेशन.

पटना में एलिट इंस्टीच्यूट ऐसा पहला हुआ, जो अपने बच्चों की सुविधा और उसके ज्ञान को उन्हीं की लैंग्वेज में समझाने का ट्रेंड शुरू किया. प्रत्येक क्लास के स्टार्ट होने से पहले लास्ट-क्लास के पढ़ाई पर आधारित 6 पृश्नों का सेट प्रत्येक दिन छात्रों में वितरित किया जाता है. नए साल में एलिट अपने स्टूडेंट्स के लिये स्टडी भी मुहैया करवाने जा रहा है,जिसके लिये एलिट का पूरा कैंपस वाई-फाई कर दिया गया है.

एलिट इंस्टीच्यूट के संस्थापक-निदेशक  अमरदीप झा गौतम ने बताया कि बच्चों के स्किल को अपडेट करने के लिए हर 45 दिनों पर बच्चों की काउंसिलिंग करायी जाती है. इसमें स्टूडेंट्स की इनर्जी, उसका लेवल, उसकी समझदारी का आंकलन करने के बाद उसकी कमियों को दूर करने की दिशा में भी काम किया जाता है. सिर्फ कोचिंग हीं नहीं बल्कि सेल्फ स्टडी के लिए लाइब्रेरी, डिस्कशन हॉल, ऑन लाइन और ऑफ लाइन सिस्टम के साथ-साथ इंग्लिश की पढ़ाई भी मुहैया करवायी जा रही है. 

♤जनरल लाइफ के एग्जांपल से प्रॉब्लम दूर.

कुछ स्टूडेंट्स की शिकायत रहती है कि वे सवाल करने से डरते है. अगर सवाल करते हैं, तो सही जवाब नहीं मिल पाता है. लेकिन एलिट इंस्टीच्यूट में बच्चों को आने वाले सब्जेक्टिव परेशानी को जनरल लाइफ के एग्जांपल देकर समझाया जाता है. एलिट इंस्टीच्यूट के डायरेक्टर अमरदीप झा गौतम ने बताया कि "मेरे इंस्टीच्यूट में टीचर और स्टूडेंट के बीच के गैप को कम किया जाता है. फ्रेंडली माहौल होने की वजह से बच्चे आसानी से अपनी पढ़ाई कर पाते हैं, साथ ही उनके सवालों का सही- सही जवाब भी दिया जाता है'. 13 टीचर और 16 नन टीचिंग स्टॉफ के साथ मॉडर्न टीचिंग हब के रुप में तब्दील हो चुका एलिट इंस्टीच्यूट बच्चों के सवालों के जवाब पर खरा उतर रहा है. यहां पर इंजीनियरिंग और मेडिकल दोनों के ही एक्सपर्ट द्वारा इसकी पढ़ाई करवायी जाती है. 

♤विरासत में मिला शिक्षण कार्य.

बेगूसराय के सांस्कृतिक व सामाजिक परिवेश से आगे बढ़ने के बाद पटना साइंस कॉलेज से एमएससी करने के बाद अमरदीप झा गौतम पढ़ाने के कामों में जुट गए. माँ और पिताजी भी शिक्षा का प्रकाश फैलाने में जुटे रहे. ऐसे में श्री गौतम ने शिक्षण का दायित्व विरासत के तौर पर ग्रहण किया. वह फिजिक्स के विख्यात शिक्षक हैं और बच्चों को खेल-खेल में फिजिक्स को आसान बना कर समझाने के हुनर में माहिर हैं. 

♤फिजिक्स से सोशल एक्टिविटी तक.

एलिट इंस्टीच्यूट के डायरेक्टर अमरदीप झा गौतम को जब भी मौका लगता है कि वो सोसायटी के गंभीर मसलों पर अपनी कलम भी भिंगोने लगते हैं. फिजिक्स के जानकार अमरदीप झा गौतम एक साथ कई विधाओं में महारत रखते हैं. मसलन कि उनकी लिखी नाटक 'सुदामा', 'आम्रपाली', 'मेरी आवाज', 'सीता', पृथ्वी-चन्दर, और 'शबरी' का कई जगह मंचन हो चुका है. वहीं, उनकी कविता, शायरी, गाना लिखने का शौक और उसकी प्रस्तुति एलिट इंस्टीच्यूट के एनुअल-फंग्शन में दिखायी जाती है. 

♤एनुअल फंक्शन की मस्ती.

एनुअल-फंक्शन में अपने लिखे गीत, नाटक, भाषण और काव्य-पाठ के साथ उसे बच्चों की आवाज में पिरोकर पेश करवाया जाता है. स्वभाव से निर्मल अमरदीप झा गौतम ने बताया कि हरेक के अंदर एक्टर छिपा रहता है. ऐसे में उसे उभारकर निकालने का दायित्व भी हम जैसे लोगों का ही है, इसलिए इस दिन को भी बच्चे काफी यादगार बनाते हैं और मैं भी इसमें जमकर जुट जाता हूं. 

मेधावी बच्चों को दी जाने वाली सुविधाएं
– ज्ञानोदय योजना के अंतर्गत इलिट 21 प्रोग्राम चलाया जाता है. इसमें वैसे 21 बच्चों का सेलेक्शन किया जाता है जो आर्थिक-रूप से कमजोर होते हैं,पर उनके अंदर मेधा रहती है.
– गरीब बच्चों के लिए 25 परसेंट की स्कॉलरशिप दी जाती है.
– लड़कियों को पूरे साल बीस परसेंट की छूट उपलब्ध करवायी जाती है.
– 2018 से अब गांव से आने वाले स्टूडेंट्स को कंप्यूटर की पढ़ाई और अंग्रेजी सिखाया जाएगा.
– प्रैक्टिकल एप्रोच से फिजिक्स, केमेस्ट्री, मैथ और बायोलॉजी पढ़ाया जाता है. 

♤पुरस्कार
2012 में स्थानीय न्यूज चैनल की ओर से बेस्ट मोटिवेटर का अवार्ड मिल चुका है.
2013 में विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं के समूह द्वारा युवा-शिक्षा सम्मान.
2014 में शिक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने के लिए शिक्षा रत्न पुरस्कार.
2014 में केंद्रीय शिक्षा-राज्य मंत्री द्वारा सरस्वती-सम्मान.
2015 में शिक्षा-अलंकार अचिवर-अवार्ड.
2016 में अन्तराष्ट्रीय युवा-सम्मान.
2017 में जागरण (पत्रकारिता-समूह) द्वारा गुरु-सम्मान.

प्रोफाइल.
नाम- अमरदीप झा गौतम.
प्रख्यात फिजिक्स टीचर, 
कॅरियर-काउंसलर,सामाजिक -कार्यकर्ता,कवि, नाटककार,सामाजिक -चिंतक और एलिट इंस्टीच्यूट के संस्थापक-निदेशक.
पिता – श्री तेज नारायण झा.
माता – श्रीमति नगीना झा.
जन्म तिथि – 12 फरवरी, बेगूसराय
शौक – कविता,गाना, गजल लिखना, और किताबें पढऩा
फेवरेट मूवी – गाइड, पेज थ्री, ब्लैक, लगान, डोर, पिंजर, आमिर,चक दे इंडिया.
बेस्ट एक्टर – अमिताभ बच्चन.
बेस्ट एक्ट्रेस – कोंकणा सेन.
गजल – जगजीत सिंह और गुलाम अली.
दर्शन- आचार्य रजनीश.
साहित्य – कर्मभूमि, गोदान, दिनकर की कवितायें, जयशंकर प्रसाद की
कामायनी, वाजपेयी जी की मेरी इक्यावन कवितायें.
इंस्पायरिंग पर्सन – अमिताभ बच्चन, हरेक पल ऐसा लगता है कि वो कुछ न कुछ सीख रहे हैं… जिज्ञासा है.

आँधियां बहुत तेज हैं कुछ दीप झिलमिलाते हैं.
ये वही हैं जो अंधेरों से रौशनी चीर लाते हैं

Post A Comment: