सफलता की ओर अभिनेत्री मधु राय

पटना से अनूप नारायण सिंह की खास रिपोर्ट :

हिंदी व भोजपुरी फिल्मों की अभिनेत्री मधु की कहानी उनकी जुबानी

जब  मै 5 साल की थी तभी मुझे डांस के प्रति लगाव हो गया था. कोई भी धुन सुनते ही पाँव  खुद ब खुद थिरकने लगते. उसके बाद स्कूल से लेकर कॉलेज तक मैंने हर सांस्कृतिक कार्यक्रम में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया. तभी मन बना लिया था कि एक्टिंग को ही कैरियर बनाऊँगी, मेरा पहला ब्रेक राजीव सिन्हा जी की नागपुरी एल्बम 'परदेसी साजन' थी, उस समय मै सिर्फ 18 साल की थी, उसमें मेरे काम की बहुत तारीफ हुई जिससे मेरा हौसला और बुलंद हो गया.. परिवार का साथ हमेशा मिला, इसके बाद रांची के थिएटर ग्रूप युवा रंगमंच से बुलावा आया जहा गुरु अजय मलकानी के सान्निध्य में मै एक्टिंग के गुर सीखने लगी. बहुत सारे नाटक किए, आज भी करती हूं. फिल्मों में मुझे पहला मौका संजय रॉय जी की फ़िल्म 'हम हाई गंवार' मे मिला, जिसमें विनय आनंद, रश्मि देसाई, ब्रजेश त्रिपाठी जैसे बड़े कलाकार के साथ काम करने का मौका मिला, उसमे मैं सेकंड लीड थी| पर इसी समय मेरे पिताजी को लकवा का अटैक हुआ और मैं मुंबई छोड़ कर रांची अपने माता पिता की सेवा के लिए आ गई, कैरियर वही रुक गई फिर 2011 मे मेरी शादी हो गई... पर किस्मत ने फिर खेल दिखाया और 2015 के अप्रैल मे मेरे पति का कैंसर से स्वर्गवासी हो गया... छोटी सी 2 साल की बेटी को लेकर फिर लड़ाई शुरू हुई और मैंने धोनी की बायोपिक धोनी _अ अनटोलड स्टोरी में एक छोटा से किरदार से वापसी की.. फिर अजब सिंह की गज़ब कहानी, रांची डायरीज जैसी हिंदी फिल्मों मे काम किया और भोजपुरी मे संजय पांडेय जी के साथ सनम साथ निभाना जनम जनम, गौरव झा, निधि झा के साथ गैंगस्टर दुल्हनिया, खेसारीलाल  जी के साथ राजा जानी किया जो इस साल रिलीज होगी और बॉलीवुड के जानेमाने अभिनेता संजय मिश्रा जी के साथ मनु का सरेंडर मे  काम किया|

Post A Comment: