दायित्व निर्वहन न  करने पर तीन सफाईकर्मियों व दो ब्लाक समन्वयकों के विरूद्ध कार्यवाही। 
सुलतानपुर 
 जिलाधिकारी संगीता सिंह ने ग्रामीणों का आवाहन् किया कि अपने गांव को खुले में शौच से मुक्त कराकर एक आदर्श प्रस्तुत करें। उन्होंने कहा कि स्वच्छता हमारा सबसे बड़ा धर्म है। हम जैसे अपने घर की सफाई पर ध्यान देते हैं, उसी प्रकार हमारे अन्दर अपने गांव , स्कूल, सड़क को स्वच्छ रखने की भावना होनी चाहिए तथा इस कार्यक्रम में बढ़ चढकर हिस्सा लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि शासकीय योजनाओं को धरातल पर पहंुचाने की यह एक अनूठी पहल है और इसके सार्थक परिणाम भी होंगे। जिलाधिकारी आज अपने शीतकालीन भ्रमण के दौरान कूरेभार ब्लाक अन्तर्गत कटका खानपुर में आयोजित चैपाल में विकास व राजस्व कार्यों का सत्यापन किया तथा ग्रामीणों की समस्याओं को सुना व सम्बन्धित त्वरित निस्तारण के निर्देश दिए। 
जिलाधिकारी ने चैपाल कार्यक्रम में विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों से सीधा संवाद स्थापित कर शासन द्वारा संचालित योजनाओं की जानकारी ली। उन्होंने समीक्षा में पाया कि यह गांव सम्पर्क मार्ग से जुड़ा है तथा विद्युतीकृत है। इस गांव में अन्त्योदय योजना के 158 तथा पात्र गृहस्थी के 614 कार्ड धारक हैं। इस गांव में 54 हैण्डपम्प स्थापित हैं, जिसमें 06 रिबोर योग्य हैं तथा रिबोर का कार्य प्रगति पर है। इस गांव में वृद्धापेंशन के 114 लाभार्थी हैं, जिन्हें पेंशन मिल रही है। 14 नये लाभार्थियों का चयन किया गया है। उन्होंने खण्ड विकास अधिकारी को नये लाभार्थियों का तत्काल सत्यापन करने के निर्देश दिए। इस गांव में निराश्रित विधवा पेंशन के 53 व दिव्यांग पेंशन के 27 पेंशनर हैं। दिव्यांग  पेंशन के दो मृतक लाभार्थियों के स्थान पर नये लाभार्थियों के चयन के निर्देश दिए गये। जिलाधिकारी ने प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामनिधि , सोलरलाइट , खडण्जा निर्माण तथा मनरेगा आदि कार्यक्रमों के बारे में ग्रामीणों से जानकारी ली। 
स्वच्छता कार्यक्रम पर विशेष बल देते हुए उन्होंने गांव को यथाशीद्य्र ओ.डी.एफ. घोषित कराने का आवाहन् किया। इस गांव के 10 लाभार्थियों को उन्होंने शौचालय का स्वीकृत पत्र तथा 15 लाभार्थियों को प्रधानमंत्री आवास योजना का प्रमाणपत्र भी वितरित किया। सफाईकर्मियों के बारे में ग्रामीणों द्वारा शिकायत की गयी कि वे गांव में सफाई का कार्य नहीं करते हैं, इसे गम्भीरता से लेते हुए जिलाधिकारी ने गांव के तीनों सफाईकर्मियों चन्द्रजीत यादव, रामू यादव व मो.खालिद का स्पष्टीकरण प्राप्त कर डी.पी.आर.ओ. को कार्यवाही करने के  निर्देश दिए। इस गांव में स्वच्छता के सम्बन्ध में निगरानी समिति का गठन न होने तथा शौचालय निर्माण  की प्रगति खराब पाये जाने पर ब्लाक क्वार्डिनेटर गोविन्द वर्मा व अंजनी यादव को चेतावनी देते हुए कार्यवाही के निर्देश दिए गये। 
जिलाधिकारी के प्रथम शीतकालीन भ्रमण/चैपाल कार्यक्रम में परिषदीय विद्यालय की छात्राओं द्वारा आकर्षक स्वागत गीत व नृत्य प्रस्तुत किया गया, जिसकी जिलाधिकारी द्वारा सराहना की गयी । उन्होंने कहा कि इन छात्राओं में प्रतिभा की कोई कमी नहीं है। ये छात्राएं अपनी प्रतिभा के बल पर जिलाधिकारी की कुर्सी पर आसीन हो सकती हैं। उन्होंने बेसिक शिक्षा विभाग के अच्छे कार्यों के लिए जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कौस्तुभ कुमार सिंह की सराहना भी की। 
कार्यक्रम का सफल संचालन करते हुए जिला विकास अधिकारी डाॅ.डी.आर.विश्वकर्मा ने ग्राम्य विकास की विभिन्न योजनाओं प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण), मनरेगा तथा राज्य पोषण मिशन आदि कार्यक्रमों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। 
चैपाल कार्यक्रम में मुख्य चिकित्साधिकारी डाॅ.सी.वी.एन.त्रिपाठी ने टीकाकरण, उपनिदेशक कृषि शैलेन्द्र शाही ने कृषि, डी.पी.आर.ओ. सर्वेश पाण्डेय ने स्वच्छता कार्यक्रम , सी.वी.ओ. डाॅ.अजीत सिंह ने पशुपालन, जिला समाज कल्याण अधिकारी आर.सी.दूबे ने पेंशन योजनाओं व मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के बारे में ग्रामीणों को जानकारी दी। इसी प्रकार विभिन्न विभागों के अधिकारियों द्वारा ग्रामीणों को विभागीय योजनाओं के बारे में जानकारी दी। इस अवसर पर जिलाधिकारी के समक्ष 04 लोगों रामसेवक, राजकुमार, शोभावती व सुधीर ने अपनी पुत्रियों की शादी मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के अन्तर्गत आयोजित होने वाले कार्यक्रमों में अपनी सहमति दी। 


इस अवसर पर उपजिलाधिकारी सदर प्रमोद पाण्डेय, बी.एस.ए. कौस्तुभ कुमार सिंह, जिला सूचना अधिकारी आर.बी.सिंह, खण्ड विकास अधिकारी अंजली सरोज व सम्बन्धित उपस्थित थे। इस अवसर पर खण्ड विकास अधिकारी ने जिलाधिकारी को प्रतीक चिन्ह भेंट किया। 

Post A Comment: