चीफ एडिटर कृष्ण कुमार संजय :


राज्य में स्कूली बच्चों को समय पर पाठ्यपुस्तकें उपलब्ध नहीं कराने के मामले में पटना हाईकोर्ट ने नाराजगी जाहिर की है. कोर्ट ने पूछा कि अगर बच्चों को समय पर किताबें नहीं मिलेगी तो बच्चे कैसे पढेंगे. मामले की सुनवाई करते हुए कोर्ट ने सरकार को किसी भी हाल में पन्द्रह  दिनों के अंदर पाठ्यपुस्तकें उपलब्ध कराने का आदेश दिया है|शिव प्रकाश रॉय की जनहित याचिका पर चीफ जस्टिस राजेन्द्र मेनन की खंडपीठ ने सुनवाई की और बिहार राज्य टेक्स्ट बुक कमिटी के जवाब पर गहरा असंतोष जाहिर किया. कोर्ट ने कहा कि विभाग के मुख्य सचिव और शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव पाठ्यपुस्तकें देने में होने विलम्ब के लिए एक कमिटी गठित करें|

यह कमिटी सभी समस्याओं की जांच कर रिपोर्ट देगी जिसे कोर्ट में पेश करना होगा. कोर्ट ने स्पष्ट किया कि किसी भी हालत में बच्चों को समय पर पुस्तकें मिलनी चाहिये. इस मामले में एक माह बाद फिर से सुनवाई की जाएगी.

Post A Comment: