कभी थे ढ़ोल-ताशा के गायक,आज हैं हिंदी फिल्म के नायक

अनूप नारायण सिंह



बेगूसराय, "कौन कहता है कि आसमां में सुराख नहीं हो सकता,एक पत्थर तो तबियत से उछालो यारों" इस चर्चित कहावत को चरितार्थ करने वालों में बिहार के बेगूसराय के मंसूरचक जैसे देहात से मायानगरी मुम्बई तक का सफर तय करने वाले चर्चित बॉलीवुड अभिनेता अमित कश्यप का नाम भी जुड़ चुका है।मंसूरचक के समसा चौक स्थित एक छोटे से ढ़ोल ताशा पार्टी से अपने कलाकारी जीवन की शुरुआत करने वाले श्री कश्यप विभिन्न भाषाओं की लगभग एक दर्ज़न फिल्मों में अभी तक प्रमुख भूमिका निभा चुके हैं।बिहार के मोकामा प्रखंड से जुड़ी चर्चित लोककथा रेशमा चौहरमल पर आधारित हिंदी फीचर फिल्म "चौहर" में मुख्य भूमिका अदा कर राष्ट्रीय स्तर पर चर्चा में आ चुके श्री कश्यप ने अरुण सिंह निर्मित एवम विनोद कुमार निर्देशित "टूटे न सनेहिया के डोर" में मुख्य खलनायक की भुमका से अपने फिल्मी कैरियर की शुरुआत की।आशतोष प्रभाकर निर्मित "तीज",अजय मिश्रा निर्मित "मनवा के मीत"(भोजपुरी),अनिल पतंग निर्मित व रघुबीर सिंह निर्देशित "जट जटिन"(हिंदी),विष्णु पाठक व रजनीकांत पाठक निर्मित एवम मनोज श्रीपति निर्देशित "लव यू दुल्हिन" बिजय बंसल निर्मित व वरदराज स्वामी निर्देशित "गुलमोहर"(हिंदी) आदि इनके द्वारा अभिनीत चर्चित फिल्मों में हैं।बहरहाल मार्च में प्रदर्शन को तैयार इनकी मुख्य भूमिका से सजी भोजपुरी फीचर फिल्म "सईयां ई रिक्शावाला" के प्रमोशन में जोर शोर से लगे श्री कश्यप ने कहा कि यह फ़िल्म भोजपुरी फिल्मों के निर्माण का ट्रेड चेंजर साबित होगा,जिसमें सामाजिक सरोकार से जुड़े कुछ मुद्दों को बारीकी से उठाया गया है।बिहार में क्षेत्रीय फिल्मों के निर्माण में सब्सिडी एवम मल्टीप्लेक्सों में क्षेत्रीय फिल्मों के प्रसारण की वकालत करते हुए उन्होंने बिहार में फ़िल्म विकास की धीमी गति पर चिता ज़ाहिर करते हुए इसे दुर्भाग्यपूर्ण बताया और सरकारी स्तर पर ठोस कदम उठाए जाने की बात कही।बताते चलें कि विशुद्ध रूप से बिहार के कलाकारों से सजी एवम बिहार में ही बनी भोजपुरी फ़िल्म "सईयां ई रिक्शावाला" में शराबबंदी,प्रौढ़ शिक्षा और नारी सशक्तिकरण जैसे मुद्दों को गंभीरता से उठाया गया है।फ़िल्म के निर्माता ज्योति नाथ सिंह,निर्देशक आर.बी.सिंह हैं जबकि मुख्य कलाकारों में अमित कश्यप,विवेकानंद झा,खुशबू पांडे,अनिल पतंग,अरुण शांडिल्य,राकेश महंथ, पंकज गौतम,अजय अनंत,रंजीत गुप्त,बबलू आनंद,देवानंद सिंह,संजीव पहलवान,लवली सिंह आदि हैं।

Post A Comment: