गन्ना किसानों के पर्ची सम्बन्धी समस्याओं के त्वरित निस्तारण के निर्देश। 
सुलतानपुर
 जिलाधिकारी संगीता सिंह ने आज किसान सहकारी चीनी मिल के कार्यालय तथा गन्ना पर्ची काउन्टर का औचक निरीक्षण किया। उन्होंने इस अवसर पर गन्ना किसानों की समस्याओं को सुना तथा महा प्रबन्धक चीनी मिल को त्वरित निस्तारण के निर्देश दिए।
जिलाधिकारी ने जी.एम. चीनी मिल को निर्देशित किया कि यदि अपरिहार्य कारणवश चीनी मिल का ब्रेक डाउन होता है तो इस सम्बन्ध में गन्ना किसानों तथा सभी उपजिलाधिकारियों को एस.एम.एस के माध्यम से सूचित किया जाय। जिलाधिकारी ने निरीक्षण में पाया कि चीनी मिल परिसर में एक समय में तीन सौ ट्रालियां खड़ी होती हैं तथा एक दिन में सौ ट्राली गन्ने की पेराई होती है। उन्होंने कहा कि यदि गन्ना किसान को कम्प्यूटर द्वारा पर्ची जारी कर दी गयी है तथा तकनीकी खराबी के कारण फैक्ट्री ब्रेकडाउन होती है तो तत्काल गन्ना किसानों को एस.एम.एस. के माध्यम से सूचना भेजी जाय कि उन्हें मिल में कब तक गन्ना लाना है। इसकी सूचना उपजिलाधिकारियों  तथा चीनी मिल के उपाध्यक्ष तथा निदेशक मण्डल के सदस्यों को भी सूचित किया जाय ताकि किसानों को जानकारी हो सके और उन्हें असुविधा न हो। उन्होंने निरीक्षण के दौरान पाया कि कार्यालय में अभिलेख /पत्रावलियों का रख-रखाव सही ढ़ंग से नहीं किया गया है। इस सम्बन्ध में अभिलेखो का रख-रखव सुव्यवस्थित ढ़ंग से कराने के निर्देश दिए। 
इस अवसर पर चीनी मिल के महाप्रबन्धक के.पी.शुक्ला ने बताया कि फैक्ट्री के ब्रेक डाउन के कारण 28 फरवरी तक गन्ना पर्ची जारी करना बंद कर दिया गया है। क्योंकि जिन किसानों को 02 फरवरी के बाद पर्ची जारी हुई थी, उनके गन्ने की तौल /पेराई नहीं हो पायी थी। इसे पूरा करने के बाद ही पर्ची जारी की जायेगी। उन्होंने जिलाधिकारी को आश्वासन दिया कि वह गन्ना किसानों की सुविधाओं का पूरा ध्यान रखेंगे और उनकी समस्याओं का त्वरित निदान करेंगे तथा उन्हें एस.एम.एस. के माध्यम से सूचना उपलब्ध करायेंगे। उन्होंने बताया कि अब तक 08 लाख कुन्तल गन्ना की पेराई हो चुकी है। 
इस अवसर पर किसान सहकारी चीनी मिल के उपाध्यक्ष उमेश कुमार सिंह ने गन्ना किसानों की समस्याओं के बारे में जिलाधिकारी को जानकारी दी तथा अपने बहुमूल्य सुझाव दिए। 
जिलाधिकारी के निरीक्षण के समय अपर जिलाधिकारी (प्रशासन) बी.डी.सिंह तथा जिला सूचना अधिकारी आर.बी.सिंह व सम्बन्धित उपस्थित थे। 

Post A Comment: