उत्तर प्रदेश श्रावस्ती जिला में आज ऋषि बोध उत्सव पर्व पर आर्य समाज मे हुआ यज्ञ का कार्यक्रम

रिपोर्ट हरीश कुमार यादव की श्रावस्ती से

आज 14 फरवरी 2018 को भिनगा स्थित आर्य समाज मंदिर में यज्ञ व प्रवंचन का कार्य क्रम सम्पन्न हुआ ।यज्ञ को आर्य समाज के प्रधान श्री विश्वनाथ मिश्र जी ने सम्पन्न करवाया ।
इस दौरान उन्होंने आज के दिवस पर प्रकाश डालते हुए कहा कि आज के ही दिन आर्य समाज के प्रवर्तक महान समाज सुधारक महर्षि दयानंद जी को आत्म ज्ञान हुआ था ।उन्होंने पाखंड ,अंधविश्वास के विरुद्ध आंदोलन जीवन भर किया ।उनका इस समाज पर अन्यन्य उपकार है ।वही आर्य नेता सन्दीप कुमार शांडिल्य ने कहा कि वेद कहता है ईश्वर का कोई प्रतीक नही, कोई चिन्ह नही , कोई लिंग नही
*यह परमपिता शिव चेतन है* जड़ नही है।वैदिक गुरुकुलों मे आज भी प्रतिदिन इस चेतन सर्वव्यापक कल्याणकारी शिव की उपासना होती है , जिसकी विधि है अष्टांग योग
न् तस्य प्रतिमा अस्ती, यस्य नाम महद्यश
यजु 32:3:: अर्थात उस महान यश वाले शिव की कोई प्रतिमा या प्रतीक सम्भव नही
अतः शिवलिंग का ईश्वर से कोई सम्बन्द्ग नही ।
कोई शिवलिंग को ब्रह्मांड का प्रतीक कहता है तो कोई न्यूक्लेर रिएक्टर का , चाहे यह किसी का भी प्रतीक हो किन्तु परमपिता शिव का प्रतीक नही।
अतः हिन्दुओ सत्य जानो, सत्य स्वीकार करो।
शिव की उपासना किसी प्रतीक के द्वारा नही अपितु मन मे उनका ध्यान करने से होती है।
इस दौरान राजकुमार आर्य,बाबू राम विक्रम जी,अयोध्या प्रसाद मिश्र,पदम् नारायण पांडेय,  रवि मिश्रा, सहित अनेको आर्य जन उपस्थिति रहे।

Post A Comment: