कृषि विभाग की योजनाओं का बड़हरा मे धरातल पर उतारने के बजाए लूटने की होड़ में किया जा रहा है, खानापूर्ति

हरीश कुमार

 (भोजपुर):  बड़हरा प्रखंड के कुल 22 पंचायतों में कृषी चौपाल का आयोजन 15 दिसंबर से 31 दिसंबर 2017 के बीच करना था। जानकारी के अनुसार कृषि चौपाल में पंचायत के सभी किसानों को एक स्थान पर बैठा कर चर्चा-परिचर्चा करना था। और सरकार द्वारा संचालित कृषि से संबंधित योजनाओं को जानकारी देना था। चौपाल में किसानों को बीज वितरण, यंत्रीकरण, किसान रजिस्ट्रेशन और मिट्टी जांच से सम्ब्नधित जानकारी विशेष रुप से देने की योजना था।  प्रखंड के कई किसानों ने बताया कि पंचायतों में किसान चौपाल की केवल खानापूर्ति की गई है। पंचायत के कई ऐसे किसान हैं, जिन्हें कृषि चौपाल क्या होता है? इसकी तक जानकारी नहीं है। कई पंचायत जनप्रतिनिधियों ने बताया कि उनके पंचायत में कृषि  चौपाल का आयोजन नहीं किया गया है। लोगों का मानना है कि प्रचार-प्रसार के अभाव में किसानों से संबंधित सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं मिल पाता है। लोगो ने यहां तक बताया कि कृषी से सम्बन्धित कार्य के लिए पहले चढावा उसके बाद आप का क् से मिली जानकारी के अनुसार आदर्श ग्राम गुंडी में कृषि से संबंधित योजनाओं का केवल खानापूर्ति किया जा रहा है। एक पंचायत के किसान सलाहकार को भी यह पता नहीं है,कि उनके पंचायत में कृषि चौपाल का आयोजन हुआ था। एकवना पंचायत के पंचायत समिति के प्रतिनिधि राजू सिंह ने बताया कि उनके पंचायत में  कृषि चौपाल का आयोजन नहीं किया गया था। पश्चिमी बबुरा पंचायत के पंचायत समिति सदस्य मनोज कुमार और ग्रामीण प्रसाद ने बताया कि उनके पंचायत में कृषि चौपाल का आयोजन नहीं किया गया था। फालना पंचायत के लोजपा जिला उपाध्यक्ष अजय प्रताप सिंह और अरविंद सिंह ने बताया कि हमारे पंचायत में चौपाल का आयोजन नहीं हुआ था।

Post A Comment: