फिटनेस को अपनी सफलता का आधार मानते है डॉक्टर बिजय 

बिहार ब्यूरो ,अनूप नारायण सिंह
एक छोटी सी घटना ने बदल दी ज़िँदगी को जीने का तरीका और दिया सफलता का नया आयाम 1997 मे अचानक तबियत खराब हो गयी दिल्ली के एक प्रसिद्ध चिकित्सक ने उन्हे इलाज के दौरान बताया की रोज़मर्रा के क्रिया कलाप मे परिवर्तन ही हमारे स्वास्थ की कुँजी है आज डॉक्टर बिजय 51 वर्ष के है लेकिन फिटनेस के लिये  युवाओ के प्रेरणा के रूप मे जाने जाते है फिटनेस के लिये उनकी प्रतिबद्धता किसी स्पोर्ट स्टार  की तरह ही हैविजय कुमार क जन्म 1967 मे पेशे से इंजिनीयर पिता यदुवँशि सिँह और माता कांति देवी जो सरकारी शिक्षक थी के घर हुआ  पटना जिले के दानापुर से स्कूल की शिक्षा प्राप्त की फिर मेडिकल  एजुकेशन के लिये mgm कॉलेज जमशेदपुर मे चले गये 1991बैच मे mbbs पूरा करने के बाद अपनी Md medicine को 1994 बैच मे दरभंगा मेडिकल कॉलेज मे चयनित हुये 1994 मे पेशे से डॉक्टर संध्या किरण से विवाह हुआमाँ के नाम अपने हॉस्पिटल की शुरू किया.1997 मे दिल्ली मे म्युनिसिपल कॉरपोरेशन मे जॉइन करने के बाद एक दिन जब घर से माँ की तबियत खराब होने की खबर ने उनको आहत कर दिया दानापुर क्षेत्र मे चिकित्सा सुविधाओ के अभाव को देखते हुये डॉक्टर बिजय ने ये तय किया की वो अब अपने प्रदेश बिहार मे ही लोगो की सेवा करेँगे.. एक नये डॉक्टर का दानापुर क्षेत्र मे कार्य करना बेहद चुनौतीपूर्ण था मगर इस विषम स्थिती मे उनकी पत्नी डॉक्टर संध्या किरण जो स्वयँ रेलवे मे मुख्य गय्नोकलोजीस के पद पर कार्य कर रही है उन्होने ने पूरा सहयोग किया और अपनी बेटी अनंता के साथ दानापुर आ गये 20 वर्षो के अथक प्रयासो के बलबूते आज कान्ति हॉस्पिटल लोगो की सीमित शुल्क मे सेवा प्रदान कर रही है साथ साथ दानापुर और आसपास के इलाको मे नियमित मेडिकल कैम्प के माध्यम से आम जन को चिकित्सा सुविधायें मुहैया करवा रहे है डॉक्टर बिजय और डॉक्टर संध्या किरण के प्रयासो के वजह से ग्रामीण क्षेत्र मे झोला छाप गुमराह करने वाले लोगो की तुति कम हो गयी है गरीब तबके के जन मानस मे चिकित्सा क बेहतरीन सुविधा और जानकारी पहुँचने लगी है डॉक्टर बिजय एक पारिवारिक सँस्कृति मे विश्वास करने वाले व्यक्तित्व है माता पिता से उनका बेहद लगाव है साथ ही साथ पत्नी और बेटी का भी पूरा ख्याल रखते है आज उनके इसी अनुशासन से अनंता ने शानदार सफलता को प्राप्त किया देश के प्रख्यात कॉलेज मे दाखिला लिया और माता पिता की ही भाँति जनसेवा का सँकल्प लिया है.. आज चिकित्सा जगत मे डॉक्टर बिजय सबसे सम्मान से लिये जाने वाले चिकित्सको मे शुमार किये जाते है

Post A Comment: