सीएचसी पर कार्यरत शिथिल कार्मिकों के विरूद्ध कार्रवाई के निर्देश
बहराइच से अजित कुमार यादव : 



दायिक स्वास्थ्य केन्द पयागपुर में अव्यवस्थाओं के सम्बन्ध में समाचार-पत्रों में प्रकाशित खबरों के सन्दर्भ में मुख्य चिकित्साधिकारी बहराइच द्वारा प्रेषित आख्या के विभिन्न बिन्दुओं पर सुधार के दृष्टिगत जिलाधिकारी माला श्रीवास्तव के निर्देश पर उप जिलाधिकारी पयागपुर द्वारा पुनः की गयी जाॅच पर मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देश दिये गये हैं कि एसडीएम की जाॅच आख्या में उपलब्ध कराये गये बिन्दुओं पर प्रभावी कार्यवाही सुनिश्चित करते हुए शिथिल/उदासीन कार्मिकों के विरूद्ध आवश्यक कार्रवाई करें। इस सम्बन्ध में जिलाधिकारी ने सीएमओ से 03 दिन में बिन्दुवार आख्या भी प्रस्तुत करने के निर्देश दिये हैं। 

जिलाधिकारी के निर्देश पर 27 मार्च को एसडीएम पयागपुर द्वारा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र की जाॅच में पाया गया कि यहाॅ पर पुरूष शौचालय चालू नहीं है। केवल महिला शौचालय चालू है जिसका उपयोग महिला व पुरूष द्वारा संयुक्त रूप से किया जा रहा है। स्वास्थ्य केन्द्र में समुचित सफाई भी नहीं पायी गयी। सीएचसी के मेनगेट पर कूड़ा करकट एकत्र पाया गया। निरीक्षण के समय सफाई कर्मी शशीकान्त मौके पर मौजूद नहीं मिले। 

सीएचसी के निरीक्षण के समय रोगी पंजीकरण पंजिका के निरीक्षण से ज्ञात हुआ कि कुल 165 मरीज़ों का पंजीकरण हुआ है। डा. सुभाष वर्मा नेत्र विशेषक द्वारा 11, डा. शिव कुमार मिश्रा एल.टी. द्वारा 09, डा. अजय सिंह डेन्टल हाईजीन द्वारा 06, डा. ए.के. गुप्ता जनरल फिज़ीशियन द्वारा 36, डा. आर.एस. बघेल द्वारा 08, डा. विकास सोनी द्वारा 08, डा. रहमुन्निशाॅ द्वारा 21, डा. जितेन्द्र पाण्डेय एम.एस. स्त्री रोग विशेषज्ञ द्वारा 40 तथा डा. एन.बी. जायसवाल द्वारा अपरान्ह 12ः30 बजे तक 29 रोगी देखे गये। तत्पश्चात डा. जायसवाल प्रशिक्षण कार्य के लिए बहराइच मुख्यालय चले गये थे। यहाॅ पर एम.डी. पैथालाॅली व एम.डी. रेडियोलाॅजी की तैनाती नहीं है। 

निरीक्षण के दौरान पाया गया कि डा. संदीप मिश्रा का 20 मार्च 2018 से उपस्थिति पंजिका पर हस्ताक्षर नहीं है। यहाॅ पर रात्रिकालीन सेवा हेतु रोस्टर बनाया गया है। परन्तु कार्यरत 09 चिकित्सकों में से केवल तीन चिकित्सक डा. विकास सोनी, डा. आशीष गुप्ता व डा. आर.एस. बघेल की डियूटी लगायी गयी है। निरीक्षण के दौरान पवन रंजन लैब टेक्नीशियन द्वारा पैथालोजी का कार्य किया जा रहा था। इनके द्वारा 20 मरीज़ों की जाॅच की गयी थी। एक्सरे टेक्नीशियन रामयश द्वारा तीन रोगियों का एक्सरे किया जा चुका था।

स्थलीय निरीक्षण के दौरान यह भी ज्ञात हुआ कि सीएचसी पर 26 मार्च को प्रसव के लिए 07 महिलाएं आयीं थीं जिनमें से 06 का सफलतापूर्वक प्रसव कराया गया तथा 01 महिला की जाॅच कर प्रसव समय न होने के कारण वापस भेज दिया गया था। यहाॅ पर अल्ट्रासाउण्ड मशीन न होने के कारण रोगियों को परेशानी हो रही है। निरीक्षण के दौरान यह भी पाया गया कि सीएचसी अन्तर्गत 05 नर्स संविदा पर तथा 01 नर्स स्थायी रूप से कार्यरत हैं। कृष्ण कुमार व राणा प्रताप वार्ड ब्वाय के पद पर कार्यरत हैं। यहाॅ पर कार्य के अनुसार वार्ड ब्वाय कार्यरत न होने के कारण फार्मासिस्ट एवं कुक गुलाब अली व स्वीपर श्रीकान्त से कार्य लिया जा रहा है

Post A Comment: