विनय कुमार मिश्रगोरखपुर।अभी उपचुनाव में मतदान के दिन भाजपा प्रत्याशी से महिला आईपीएस की बहस को ज्यादा दिन नहीं गुजरा की आज फिर एक ट्रेनी आईपीएस को सत्ता पक्ष से जुड़े छात्र संगठन के युवाओं ने अपने निशाने पर ले लिया । विश्वविद्यालय छात्रावास में गोली चलने की खबर के बाद गुरुवार की दोपहर यूनिवर्सिटी चौराहे पर उस समय हड़कंप मच गया जब एसपी ट्रैफिक आदित्य प्रकाश वर्मा व ट्रेनी आईपीएस वीरेंद्र कुमार ने वहाँ पहुँच कर अपने दल बल और भारी पुलिस फोर्स के साथ बिना हेलमेट के चल रहे लोगों के खिलाफ कार्रवाई करना शुरू किया। इस बीच दो अलग अलग गाड़ियों पर जा रहे युवकों को जब पुलिस के सिपाहियों ने रोका तो युवको ने हंगामा शुरू कर दिया । वहां मौजूद ट्रेनी आईपीएस वीरेंद्र कुमार ने युवकों को समझाना चाहा तो वह और भड़क उठे और उनसे उलझ गए। इस बीच उन युवकों की नोकझोंक एसपी ट्रैफिक आदित्य वर्मा से भी हुई। विश्वविद्यालय से परीक्षा देकर निकल रहे हैं मौके पर मौजूद कुछ लोगों का कहना था कि उक्त युवक सत्ताधारी दल से संबंध एक छात्र संगठन के पदाधिकारी हैं। बाद में उन युवकों को पुलिस कैंट थाने ले गयी जहां पर बड़ी संख्या में सत्ता पक्ष और उनसे जुड़े छात्र संगठन के पदाधिकारी पहुंच कर मामले को मैनेज कराने में जुट गए।बहरहाल सीएम के शहर में भारी पुलिस बल की मौजूदगी में लॉ एंड आर्डर मेंटेन कराने वाले एक आईपीएस अधिकारी के साथ सत्ताधारी दल से जुड़े छात्र संगठन के युवाओं का यह  बर्ताव कहीं न कहीं इस बात की तरफ इशारा है कि यहां सब कुछ ठीक नही है।

Post A Comment: