यश और ओज से परिपूर्ण श्री संतोष कुमार की उंगलियां कंप्यूटर के माध्यम से समृद्ध भारत के निर्माण में अविस्मरणीय योगदान दे रही हैं बिहार के नवादा जिले के खनवा गांव जहां बिहार के प्रथम मुख्यमंत्री डॉक्टर श्री कृष्ण सिंह का जन्म स्थान है वहां श्री संतोष कुमार का जन्म एक अत्यंत साधारण किसान परिवार में हुआ पिता अर्जुन प्रसाद सिंह और माता सिया देवी का यह सपूत सिर्फ अपने मां बाप का ही नहीं बल्कि अपनी जन्मभूमि के नाम को भी रोशन कर एक नए भारत का निर्माण में लगा हुआ है संतोष कुमार ने मगध विश्वविद्यालय से इतिहास में स्नातक तथा विशाखापट्टनम आंध्र प्रदेश से पीजीडीसीए कंप्यूटर एवं डिप्लोमा इन इलेक्ट्रॉनिक्स की डिग्री ली । स्वामी विवेकानंद एजुकेशनल ट्रस्ट विशाखापट्टनम के अध्यक्ष एवं फाउंडर मेंबर राष्ट्रिय कंप्यूटर साक्षरता मिशन ट्रस्ट दिल्ली के अध्यक्ष एवं फाउंडर मेंबर डॉ श्रीकृष्ण सिंह फाउंडेशन ट्रस्ट के सचिव एमसीसी सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट प्राइवेट लिमिटेड के प्रबंध निदेशक तथा कंप्यूटर साक्षरता मिशन के अध्यक्ष संतोष कुमार संपूर्ण भारत में आर सी एम के माध्यम से सस्ती दर पर कंप्यूटर शिक्षा प्रदान कर रहे हैं इन्होंने कंप्यूटर शिक्षा को गांव गांव में फैला दिया है गांव में रहने वाले युवा ग्रह नहीं तथा किसान इनके कंप्यूटर शिक्षण संस्थान से सस्ता और सुलभ शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं आज देशभर में आर सी एस एम की 2000 कंप्यूटर शाखाएं हैं आज के दौर में जितनी भी कंप्यूटर साक्षरता शाखाएं हैं वह सभी अर्थ लाभ के लिए ही खुले हैं जबकि आरसीएसएम निशुल्क में कंप्यूटर की शिक्षा देकर मिसाल कायम की है जिस कंप्यूटर ज्ञान को अर्जित करने के लिए अंग्रेजी का ज्ञान होना जरूरी था उसे श्री संतोष कुमार ने हिंदी और क्षेत्रीय भाषाओं में अत्यंत सरल रूप में प्रस्तुत कर आम आदमी को कंप्यूटर से जुड़कर इतिहास रच दिया है आज श्री संतोष कुमार अपनी संस्था राष्ट्रीय कंप्यूटर साक्षरता मिशन के माध्यम से भारत के हर नागरिक को पार्टी से जुड़ने के लिए प्रयत्नशील हैं वह हिंदी भाषा भाषी प्रदेशों में कंप्यूटर बेसिक  विंडोज एम एस ऑफिस 2000 के सिद्धांतों इंटरनेट मल्टीमीडिया ईमेल जावा डिप्लोमा इन कंप्यूटर प्रोग्रामिंग इंटरनेट क्रांति एकाउंटिंग जैसे विषयों का प्रशिक्षण देकर हर आदमी को सूचना तकनीक से जोड़ने का काम कर रहे हैं इतना ही नहीं उन्होंने ऐसे में आर्थिक दृष्टि से पिछड़े तथा निचले स्तर का जीवन यापन करने वाले को कंप्यूटर की शिक्षा देकर रोजी-रोजगार से जोड़ दिया है संतोष कुमार का कहना है कि स्वस्थ और शिक्षित समाज के बल पर ही भारत को महान बनाया जा सकता है हमें आने वाली पीढ़ियों को भी इस से अवगत कराना होगा तथा उसमें ऐसे संस्कार का रंग भरना है जो पहले उन्हें इंसानियत से जुड़े उनका सपना है कि बिहार के हर आदमी की उंगलियां कंप्यूटर के कीबोर्ड से खेले और बिहार को आईटी एवं सूचना तकनीकी के क्षेत्र में सबसे विकसित राज्य की श्रेणी में खड़ा करें

Post A Comment: