प्रदेश में भाजपा के सहयोगी दल सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (एसबीएसपी) से अक्सर ही योगी आदित्यनाथ सरकार को काफी असहज करती रहती है। माना जा रहा है कि 23 मार्च को होने वाले राज्यसभा के मतदान में एसबीएसपी ही भाजपा के नौवें प्रत्याशी का चुनाव बिगड़ सकता है। अनेदखी को लेकर नाराज़ ओपी राजभर ने अमित शाह से की बातचीत की मांग की है। उन्होंने कहा कि अमित शाह से बात किए बैगर हमारा फैसला नहीं बदलेगा। उन्होंने कहा कि अमित शाह से मुलाकात नहीं होने की स्थिति में राज्यसभा में वह बीजेपी को समर्थन नहीं देंगे। उनके पास चार विधायक हैं और चारों वोट नहीं डालेंगे।

Post A Comment: