साकेत जैन सिवनी म.प्र.।

देश की आजादी के 25 साल पूर्ण होने के अवसर पर वर्ष 1972- 73 में विकासखंड मुख्यालय में शहीद स्तंभ स्थापित किए गए थे। इसी कड़ी में घंसौर में भी शहीद स्तंभ स्थापित किया गया इसके स्थापित हुए लगभग 44 वर्ष पूर्ण हो चुके हैं।

घंसौर के कन्या शाला बाजार चौक में स्थित मुख्य स्तंभ को हटाकर, कहीं अन्यत्र ले जाने की साजिश के आरोप झंडा चौक समिति घंसौर से जुड़े कुछ सदस्यों द्वारा लगाए जा रहे हैं। घंसौर की आस्था के प्रतीक कहे जाने वाले इस स्तंभ के सामने प्रतिवर्ष राष्ट्रीय पर्वों में आयोजन किया जाता है। स्वतंत्रता दिवस हो या* *गणतंत्र दिवस बड़ी संख्या में लोग एकत्रित होकर इन पर्वों को धूमधाम से मनाते आ रहे हैं।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार विगत 24 फरवरी को जनपद पंचायत घंसौर में सामान्य सभा की बैठक का आयोजन किया गया था। यहां एक जनपद सदस्य द्वारा जागरुक मंच कहानी की मांग का हवाला देते हुए घंसौर स्थित शहीद स्तंभ को झंडा चौक से हटाकर जनपद कार्यालय के सामने स्थापित करने संबंधी पक्ष रखा गया।

इस मामले में जनपद की सामान्य सभा की बैठक में निर्णय लिया गया, कि जागरूक मंच कहानी के सदस्यों को आमंत्रित कर उनसे चर्चा के बाद शहीद स्तंभ को हटाने संबंधी निर्णय लिया जाएगा। वही झंडा चौक समिति से जुड़े लोगों का मानना है कि स्तंभ से जुड़े किसी तरह के निर्णय व चर्चा केवल झंडा चौक समिति से जुड़े सदस्यों से किया जाना चाहिए। स्तंभ को स्थापित हुए 44 साल पूरे हो चुके हैं।

झंडा चौक समिति सदस्यों का कहना है कि अभी तक ऐसी कोई जानकारी समिति के पास जनपद से नही आई है ये दुख का विषय है कि इसे यहां से हटाने की साजिश की जा रही है यदि ऐसा कुछ होता है तो हमारी समिति इसका विरोध प्रदर्शन करेगी क्योंकि यह हमारी आस्था का केंद्र बन चुका है और विगत वर्ष ही चौक का नव निर्माण हुआ है और शहीद स्तंभ को यहां स्थापित किया गया है।

हमारी सरकार और बड़े अधिकारी से निवेदन है कि शहीद स्मारक झंडा चौक को अपने स्थान मैं रहने दे क्योंकि घंसौर के सभी विद्यालय 26 जनवरी 15 अगस्त को शहीद स्मारक झंडा चौक में एकत्रित होते हैं और सांस्कृतिक कार्यक्रम भी होते हैं

Post A Comment: