मुज़फ़्फ़रपुर मुशहरी कुढ़नी से राहुल कुमार की रिपोर्ट
*भारत बंद के दौरान सदर थाना क्षेत्र के कई जगहों पर हुए बवाल मामले में पुलिस के बयान पर तीन प्राथमिकी दर्ज की गई है।...*

मुजफ्फरपुर।* भारत बंद के दौरान सदर थाना क्षेत्र के कई जगहों पर हुए बवाल मामले में पुलिस के बयान पर तीन प्राथमिकी दर्ज की गई है। वहीं गोबरसही में गोली से घायल मिथिलेश पासवान के बयान पर चौथी प्राथमिकी दर्ज की गई है। इसमें पांच लोगों को आरोपित किया गया है। बवाल से संबंधित चार प्राथमिकी में कुल 955 लोगों को अभियुक्त बनाया गया है।

*बवाल के दौरान जमकर उपद्रव :*

पुलिस की तरफ से पहला केस गोबरसही चौक पर हुए बवाल को लेकर दारोगा सुजीत कुमार सिंह के बयान पर दर्ज किया गया है। इसमें दोनों पक्ष से 450 लोगों को अभियुक्त बनाया गया है। इसमें दो सौ बंद समर्थक तो ढाई सौ बंद विरोधी को शामिल किया गया है। विवाद के दौरान सीआरपीएफ वाहन के भी क्षतिग्रस्त होने की बात का प्राथमिकी में उल्लेख किया गया है।

फाय¨रग का नहीं किया उल्लेख : गोबरसही में बवाल से संबंधित दर्ज केस में पुलिस की तरफ से फाय¨रग का प्राथमिकी में उल्लेख नहीं किया गया है। जबकि वहां पर गोली से एक युवक भी घायल है। लेकिन, घायल के फर्दबयान पर एक केस दर्ज हुआ है।

छोड़ने पड़े थे आंसू गैस के गोले :दूसरी प्राथमिकी भगवानपुर बवाल मामले को लेकर दारोगा बसंत कुमार के बयान पर की गई है। इसमें दो सौ अज्ञात लोगों को अभियुक्त बनाया गया है। यहां पर उपद्रवियों को काबू में करने के लिए पुलिस को दो राउंड आसू गैस के गोले भी दागने पड़े थे।

चार राउंड हुई थी फाय¨रग :

तीसरी प्राथमिकी खबड़ा में हुए बवाल से संबंधित है। सब इंस्पेक्टर राजू कुमार मिश्रा के बयान पर कांड अंकित किया गया है। इसमें तीन सौ अज्ञात लोगों को आरोपित किया गया है। यहां पर पुलिस से विवाद करने के दौरान अनियंत्रित स्थिति को देख जवानों ने चार राउंड हवाई फायरिंग भी की।

किसी को नहीं बनाया नामजद : आश्चर्य की बात तो यह कि पुलिस ने किसी को नामजद नहीं किया। जबकि गोबरसही, खबड़ा व भगवानपुर में उपजे बवाल के पीछे कौन-कौन लोग शामिल थे। इसके बारे में पुलिस सब कुछ जान रही है। इलाके के लोगों में आरोपितों के नाम को लेकर चर्चा भी हो रही थी। हालांकि बवाल का वीडियो व तस्वीर पुलिस के पास मौजूद है। इसके आधार पर आरोपितों की पहचान कर तलाश में पुलिस ने कार्रवाई तेज कर दी है। एसएसपी विवेक कुमार ने कहा कि कानून हाथ में लेने वाले आरोपितों को बख्शा नहीं जाएगा। आरोपितों की पहचान कर गिरफ्तारी की कवायद में विशेष टीम ने कार्रवाई तेज कर दी है। आरोपितों को स्पीडी ट्रायल से सजा दिलाने की कवायद की जाएगी।

Post A Comment: