बहराइच अव्यवस्थाओं के सम्बन्ध में आ रही खबरों का संज्ञान लेते हुए जिलाधिकारी माला श्रीवास्तव के निर्देश पर उप जिलाधिकारी पयागपुर ने गत माह 27 मार्च को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द पयागपुर का औचक निरीक्षण किया गया था। सीएचसी पयागपुर के निरीक्षणोपरान्त एसडीएम की ओर से प्रस्तुत की गयी जाॅच आख्या इस निर्देश के साथ सीएमओ को भेजी गयी थी कि उक्त में दर्शाये गये बिन्दुओं पर प्रभावी कार्यवाही सुनिश्चित करते हुए शिथिल/उदासीन कार्मिकों के विरूद्ध आवश्यक कार्रवाई कर कृत कार्यवाही से जिलाधिकारी को भी अवगत कराया जाय।

एसडीएम पयागपुर द्वारा किये गये निरीक्षण के सन्दर्भ में सीएमओ द्वारा प्रेषित रिपोर्ट में इस बात का उल्लेख किया गया है कि उपस्थिति पंजिका पर 20 से 27 मार्च 2018 तक डा. संदीप मिश्रा के हस्ताक्षर न होने तथा निरीक्षण के समय उपस्थित नहीं मिलने के कारण सफाई कर्मी शशिकान्त के अनुपस्थित दिवस का वेतन काट दिया गया है। इसके साथ ही सीएचसी के अधीक्षक डा. एन.बी. जायसवाल को कार्य के प्रति लापरवाही एवं उत्तरदायित्व का निर्वहन न करने के लिए कारण बताओ नोटिस तथा कर्तव्य एवं दायित्वों के प्रति लापरवाही बरतने की भत्र्सना/निंदा की प्रविष्टि कर कार्यवाही प्रारम्भ कर दी गयी है। इसके अलावा निरीक्षण के दौरान पायी गयी कमियों को दूर करने एवं गुणात्मक सुधार लाते हुए अनुपालन आख्या 03 दिवस में प्रस्तुत करने को कहा गया है।

सीएमओ ने अपनी आख्या में यह भी अवगत कराया है कि सीएचसी पयागपुर में स्त्री रोग विशेषज्ञ डा. जितेन्द्र कुमार पाण्डेय तैनात हैं जबकि सर्जन, रेडियोलाॅजिस्ट, ऐनेस्थेटिक्स, फिज़ीशियन/बाल रोग विशेषज्ञ की तैनाती तथा केन्द्र पर अल्ट्रासाउण्ड मशीन लगाये जाने के लिए उत्तर प्रदेश शासन को मांगपत्र प्रेषित किया गया है। इसके अलावा सीएचसी पयागपुर में रोगी कल्याण समिति (अन्टाइट फण्ड) में उपलब्ध बजट से शौचालय एवं अन्य साफ-सफाई व्यवस्था के लिए निर्देशित कर दिया गया है।

मुख्य चिकित्साधिकारी द्वारा प्रेषित रिपोर्ट में सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर रोगियों एवं उनके साथ आने वालेे तीमारदारों के लिए स्वच्छ पेयजल की व्यवस्था के सम्बन्ध में कोई उल्लेख न किये जाने के सम्बन्ध में सीएमओ को निर्देशित किया है कि पीने के पानी के माकूल बन्दोबस्त तथा निरीक्षण के दौरान सीएचसी पर मिली गन्दगी के सम्बन्ध में सफाई कर्मी के विरूद्ध की गयी कार्यवाही के सम्बन्ध में स्थिति स्पष्ट करें। जिलाधिकारी ने ग्रीष्म ऋतु को मद्देनज़र रखते हुए सभी चिकित्सालयों, प्राथमिक व सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर मरीज़ों व तीमारदारों के लिए स्वच्छ पेयजल की समुचित व्यवस्था तथा समुचित साफ-सफाई व्यवस्था सुनिश्चित कराये जाने के निर्देश दिये हैं। 

Post A Comment: