नाबालिग से दुष्कर्म के आरोपी नवाराम को दस साल का कारावास

गेबाराम चौहान, जालोर। जिला एवं सत्र न्यायाधीश आरपी सोनी ने नाबालिग से दुष्कर्म करने के आरोपी को शुक्रवार को 10 साल के कारावास की सजा सुनाई। मामले के अनुसार पीडिता के पिता ने पुलिस थाना सांचोर में रिपोर्ट पेश कर बताया कि वह अपनी खातादारी खेत में स्थित रहवासी ढाणी में अपने परिवार के साथ निवास करता है। 7 अक्टुबर 2017 को वहीं किसी कार्य से बाहर गया था। घर पर उसकी पत्नी व नाबालिग पुत्री थे।
ऐसे में प्रतापपुरा निवासी वजा पुत्र परखा जाति मेघवाल उसके खेत में काश्तकार्य के लिए एवं गांव का होने से आना जाना लगा रहता था। 8 अक्टुबर 2014 की रात में करीब 3 बजे वजा उसके खेत में बने घर में आया तथा नाबालिग लडकी को शादी की नियत से जबरदस्ती बहला फुसलाकर भगा ले गया। नाबालिग पुत्री के शोर मचाने पर उसकी पत्नी जग गर्ई। उसने अपने पडोसियों को बताया। तब तक वजाराम उसकी पुत्री को लेकर दूर जा चुका था।
उसके बाद काफी तलाश करने पर भी उसकी पुत्री नहीं मिली। बाद में जानकारी मिली कि बालोतरा की ओर गए है। बालोतरा पुलिस थाने में उसकी नाबालिग पुत्री व वजाराम बैठे हुए थे। उस दौरान उसकी पुत्री ने बताया था कि वजा उसे जबरदस्ती शादी की नियत से भगा ले गया तथा हाडेतर ले जाकर दुष्कर्म किया। पुलिस ने पीडिता के पिता की रिपोर्ट पर नाबालिग को भगा ले जाने तथा उसके साथ दुष्कर्म करने का मामला दर्ज कर आरोपी वजाराम को गिरफतार किया।
पुलिस ने नाबालिग को भगा कर ले जाने व दुष्कर्म करने के आरोप में आरोप पत्र न्यायालय में पेश किया। सेशन न्यायाधीश आरपी सोनी ने दोनो पक्षो की बहस सुनने व पत्रावली का अवलोकन करने के बाद आरोपी वजाराम मेघवाल को नाबालिग बालिका से दुष्कर्म करने का दोषी मानते हुए दस साल के कारावास की सजा सुनाई। सरकार की ओर से पेरवी लोक ​अभियोजक अमिताभसिंह ने की।

Post A Comment: