बहराइच 
महत्वाकंक्षी जनपद बहराइच में जिलाधिकारी माला श्रीवास्तव के नवाचारों और प्रयासों को धरातल पर पुख्ता करने के उद्देश्य से खण्ड शिक्षा अधिकारी हुजूरपुर अमित श्रीवास्तव ने बैठक कर खण्ड शिक्षा क्षेत्र हुजूरपुर में 15 विद्यालयों को चिन्हित कर उन्हें जनपद स्तर पर एक उदाहरण के रूप में प्रस्तुत करने का संकल्प लिया। ज्ञातव्य हो कि जिलाधिकारी द्वारा जनपद में 200 डेमाॅस्टेªशन स्कूल स्थापित करने की जोरदार अपील की गयी थी। जिलाधिकारी की मंशा है कि यदि सभी विकास खण्ड अपने 15-15 विद्यालयों को एक आदर्श स्कूल के रूप में प्रस्तुत कर पाये तो हम सभी संयुक्त रूप से जनपद के 3453 परिषदीय विद्यालयों के लिए एक उदाहरण प्रस्तुत कर पायेंगे। इसी क्रम में जनपद में 225 आदर्श विद्यालय अथवा डेमाॅस्टेªशन स्कूल स्थापित होंने हैं।  
बैठक में इस बात पर बल दिया गया है कि सभी चयनित डेमाॅस्टेªशन स्कूल शीघ्र ही बाल-ससंद, बाल सभा, पुस्तकालय को सक्रिय बनाते हुए इसमें एक लर्निंग लैब भी स्थापित किया जाय। लर्निंग लैब के माध्यम से ब्लाक शिक्षक यहां पर क्रियात्मक शोध के माध्यम से अपने शिक्षण-शास्त्र में बाल अनुकूल विधाओं का समावेश करेंगे। उन्होंने बताया कि डेमाॅस्टेªशन स्कूल या आदर्श विद्यालयों में शिक्षा के स्कालोस्टिक पहलू के साथ-साथ गैर स्कालोस्टिक गुणों को भी विकसित किया जायेगा। प्रधानाध्यपकों ने इस बात को स्वीकारते हुए अपने विद्यालयों की कार्य प्रणाली में शोध ही अभीष्ट परिवर्तन लाएंगे जिससे बच्चों के अन्दर क्रिटिकल थिंकिंग, अपने व्यवहार पर सोच, मुश्किलों को सहन करना, आत्मविश्वास का होना, भावनाओं को समझना, अपने दैनिक जीवन में सौंदर्य और आनन्द को तलाश कर पाने का हुनर विकसित हो पाये। इस कार्यक्रम में पीरामल फाउंडेशन की ओर से जनपद में कार्यरत गांधी फैलो, राहुल, उत्कर्ष और सीमा सम्मिलित रहे।

Post A Comment: