धार्मिक आस्था का केन्द्र बना प्रखण्ड का दुर्गा स्थान कुण्डल ,जहांगीरपुर बेहट





चीफ एडिटर कृष्ण कुमार संजय :




 जिसका विहगम दृश्य लोकप्रिय वातावरण, शान्ति सौहार्द एवं लोक आस्था का मनोरम  केंन्द्र लोगों को अनायास ही आपनी ओर  आकर्षित कर लेता हैं । तकरीबन 1950में निजी स्तर पर स्थापित दुर्गा पूजा 1970   में ही सार्वजनिक रूप ले लिया ।लोगों का मानना है कि गांव के ही पूर्व मुखिया स्व0 सदानन्द सिह के द्वारा ही एक दुर्लभ कार्य के सफ़ल होने पर किया गया था । पूजा का  कार्य क्रम तब से जारी है। ईसी बीच पूजा समिति में अमर कुमार सिंह का प्रवेश हुआ । माता की कृपा इस रूप में हूआ की लोगों ने जम कर धन दान दिया और चन्दटान के सहारे ही  भब्य मंदिर का निर्माण कार्य संपन्न हो गया है ।विगत वर्षों में दुर्गा मैया की प्रतिमा संगमरमर का



कोलकाता से मंगाया गया था ।तब से अब तक नियमित रूप से सालो भर उत्साहित लोगों के द्वारा प्रति दिन पूजा अर्चना किया जाता हैं ।और नवरात्र पर विशेष कार्य क्रम का आयोजन किया जाता है । लोक आस्था हैं कि माता की कृपा से ही विपरीत परिस्थितियों के बावजूद भी गाँव में शान्ति और सौहार्द कायम रहता हैं ।और नि: शंतान को शंंतान प्राप्त होता हैं ।पूजा के प्रति आस्था का आलम यह है कि गांव से बाहर रह रहे लोगों का समागम भी  दुर्गा पूजा पर हो जाता हैं ।पूजा पर सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित किया गया है ।दुर्गा पूजा

समिति के सचिव अमर कुमार सिंह ने पंडाल निर्माण एवं पूजा की तैयारियों पर प्रकाश डालते हुये कहा कि  श्रधालुऔ के सुबिधा को ध्यान में रखते हुए  कार्य क्रम को 04 भागो में विभक्त किया गया है ।सांस्कृतिक कार्यक्रम की तैयारियाँ  नवयुवकों पर, पूजा की तैय्यारी बुजुर्गो  पर, सुरक्षा कि जिम्मेदारी जन प्रतिनिधियों पर दिया गया है ।कुल मिला कर दुर्गा पूजा को लेकर दुर्गा स्थान की  चाक चौबंद सुरक्षा कि ब्यवस्था किया गया है ।जो काबिले तारीफ है ,


इसी सिंघिया प्रखंड के अंतर्गत जहांगीरपुर बेहट के ग्रामीणों के द्वारा केल्हुयाघाट पर भी माँ दुर्गा की पूजा की जा रही है ,और मेला का आयोजन किया गया है बीती रात्री में अल्लाह रुदल नाटक हुई जिसमे काफी लोगों का भीड़ देखी गयी ,यहाँ पर पहली वार जहांगीरपुर एवं बेहट के ग्रामीणों ने माँ दुर्गा की पूजा और मेला शुभारम्भ किये है साथ ही पुरे मेला को सी सी कैमरा से लैस कर दिया गया है ,लगमा मे भी बदी धूम धाम से मेला लगाया गया है |

Post A Comment: