विनय कुमार मिश्र गोरखपुर ब्यूरों।

 मण्डलायुक्त अमित गुप्ता ने महानगर के वार्ड संख्या 23-अधिंयारीबाग तथा वार्ड संख्या 25-तुर्कमानपुर के सफाई व्यवस्था का निरीक्षण किया तथा सफाई व्यवस्था पर असंतोष व्यक्त करते हुए नगरनिगम के संबंधित अधिकारियों पर कड़ी नाराजगी प्रकट की तथा निर्देश दिये की नालियों, सड़कों आदि का नियमित सफाई सुनिश्चित हो अन्यथा संबंधित अधिकारी/कर्मचारी का दायित्व निर्धारित करते हुए उनके विरूद्ध कठोरतम कार्यवाही सुनिश्चित की जायेगी। निरीक्षण के दौरान वार्ड संख्या 25 में जान मुहम्मद सफाई कर्मी की अनुपस्थिति को संज्ञान में लेते हुए उनका वेतन बाधित करने के साथ ही उनके विरूद्ध कार्यवाही सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। इसी प्रकार वार्ड संख्या 23 में सफाई व्यवस्था पर खिन्नता प्रकट करते हुए सुपरवाइजर विन्ध्याचल के प्रति कड़ी नाराजगी प्रकट की तथा उनके वेतन बाधित करने के निर्देश दिये। मण्डलायुक्त ने वार्डाें के निरीक्षण के दौरान यह भी निर्देश दिये कि जहां कही भी बहाउ लैट्रिन पाया जाये संबंधित के विरूद्ध नियमानुसार कार्यवाही सुनिश्चित करते हुए उसे समाप्त किया जाये। उन्होंने यह भी निर्देश दिये कि नालियों की सफाई के पश्चात निकाले गये मलबे/कूड़ा को सड़क पर न रखते हुए कूड़ा गाड़ी में रखा जाये कहीं भी सड़क के किनारे कूड़ा/मलबा नही दिखना चाहिए। आयुक्त ने तुर्कमानपुर में सामुदायिक शौचालय नार्मल टैक्सी स्टैण्ड पर सफाई कर्मी नही पाया गया तथा सीवर टूटा होने और शौचालय के पीछे नाली में गंदगी के गिरने को अति गंभीरता से लेते हुए साथ चल रहे नगरनिगम के संबंधित अधिकारी को चेतावनी दी कि सफाई व्यवस्था पर निरन्तर निगरानी रखें और जो कर्मी अपने दायित्व निर्वहन के प्रति लापरवाही बरतता हुआ पाया जाये उसके विरूद्ध कठोरतम कार्यवाही भी सुनिश्चित की जाये।
मण्डलायुक्त ने निर्देश दिये कि सफाई व्यवस्था प्रत्येक वार्ड के गलियों, सड़कों आदि में नियमित रूप से होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि उनके द्वारा आकस्मिक निरीक्षण जारी रहेगा और जहां कही भी एमरजेंसी सफाई व्यवस्था पायी गयी तो संबंधित अधिकारी कार्यवाही से वंचित नही रहेगा। सफाई व्यवस्था रूटीन में होनी चाहिए। मण्डलायुक्त ने वार्डों के स्थानीय जनों से मुलाकात कर सफाई व्यवस्था के विषय में जानकारी प्राप्त की तथा समस्याओं के निस्तारण हेतु संबंधित अधिकारी कर्मचारी को निर्देश दिये। मण्डलायुक्त ने यह भी निर्देश दिये कि यह सुनिश्चित हो कि खुले में शौच पूर्णतया प्रतिबंधित है और यदि इसका उल्लंघन पाया गया तो संबंधित के विरूद्ध जुर्माना भी लगाया जाये क्योंकि महानगर स्वच्छ, सुन्दर हो इसलिए सभी को गंदगी दूर करने में बढ़चढ़ कर हिस्सा लेना होगा तथा शौचालय का प्रयोग करें।
निरीक्षण के समय नगर आयुक्त, अपर नगर आयुक्त, उपस्थित रहे।

Post A Comment: